[jharkhand] - अवैध दवा दुकानों पर रोक के लिए 24 फार्मेसी इंस्पेक्टर की होगी नियुक्ति

  |   Jharkhandnews

रांची.राज्यभर की दवा दुकानों में फार्मासिस्ट रखना अनिवार्य है। फिर भी इसका पालन नहीं किया जा रहा है। एक फार्मासिस्ट के नाम से कई दवा दुकानें अवैध तरीके से चलाई जा रही हैं। जबकि फार्मेसी एक्ट कहता है कि एक फार्मासिस्ट के नाम से सिर्फ एक दवा दुकान ही चलाई जा सकती है। इसे गंभीरता से लेते हुए सरकार ने सख्ती बरतने की कार्रवाई शुरू कर दी है। पहले चरण में सभी जिलों के लिए फार्मेसी इंस्पेक्टर की नियुक्ति की जाएगी। इससे संबंधित संचिका झारखंड फार्मेसी काउंसिल ने स्वास्थ्य विभाग को सौंप दी गई है। काउंसिल के रजिस्ट्रार कौशलेंद्र कुमार ने बताया कि राज्य में फार्मेसी का काम भी ड्रग इंस्पेक्टर ही देखते हैं, जो नियम के अनुकूल नहीं है। ड्रग इंस्पेक्टर का काम सिर्फ दवाओं का निरीक्षण करना है। उनकी गुणवत्ता मेंटेन करवानी है। फार्मेसी इंस्पेक्टर नहीं होने से मजबूरीवश दवा दुकानों में फार्मासिस्ट की मौजूदगी का इंस्पेक्शन ड्रग इंस्पेक्टर को ही करना होता है।

देश के चार राज्यों कर्नाटक, महाराष्ट्र, केरल, गोवा में फार्मेसी इंस्पेक्टर की तैनाती से दवाओं की गड़बड़ी की शिकायतें दूर हुई हैं। इन राज्यों में ड्रग और फार्मेसी इंस्पेक्टर साथ मिलकर काम करते हैं।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/fRqKDwAA

📲 Get Jharkhand News on Whatsapp 💬