[nagaur] - मूण्डवा के लाखोलाव तालाब को चाहिए संरक्षण

  |   Nagaurnews

मूण्डवा. करीब दो साल पहले राजस्थान पत्रिका ने ‘ मेरा स्वरूप लौटा दो मैं आपको ढेरों आशिष दूंगा’ शीर्षक से मेरी कथा के साथ मेरी व्यथा को भी आपके समक्ष रखा। इस पर मूण्डवा की जनता ने मेरे साथ अपार स्नेह जताया। नगरपालिका प्रशासन की भी नींद उडी। इसके बाद 14 जून 2016 व गत वर्ष 24 जून को मूण्डवा के नागरिकों ने मेरा स्वरूप सुधारने के प्रति जो उत्साह दिखाया। आपका वह प्रयास एक मिसाल बन गया। मेरा स्वरूप तो सुधरा ही आसपास के गांवों में भी मूण्डवा के नागरिकों की इस प्रेरणादायी पहल की चर्चा आम रही। इन दो आयोजनों के बाद मेरा स्वरूप और निखरकर आया, पर अभी और प्रयास हो तो आप मुझ पर गर्व करेंगे, और मैं आप पर। शायद आपने पहचान लिया होगा कि मूण्डवा का नाम आते ही मेरी पहचान हो जाती है। मैं लाखोलाव तालाब हूं।यूं तो पिछले दो सालों में मूण्डवा शहर के नागरिकों तथा नगरपालिका प्रशासन ने मेरा स्वरूप सुधारने में यादगार काम किए हैं। राजस्थान पत्रिका के अमृतमï् जलमï् अभियानों में शहर की भागीदारी एक मिसाल रही है, जिसकी बदौलत मेरे स्वरूप में निखार हुआ है। पूर्वी तथा पश्चिमी पट्टों पर पिल्लर, रैलिंग तथा लाईटों से मेरा स्वरूप खूब निखरा है। रात्री के समय यहां पहुंचने वाले लोग मुझे निहारते हैं तो मैं खुशी से झूम उठता हूं। अपने परिजनों की अंगुलियां थामें बाल गोपाल मेरे तट पर हवा खोरी के लिए आते हैं तथा अठखेलियां करते हैं तो मेरी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहता। दक्षिणी दिशा में सदियों से पक्के घाट की बाट जो रहा था यह मुराद भी मेरी पूरी हो गई है। इस सबके लिए मेरी ओर से शहरवासियों को लख-लख बधाईयां।बनी रहे निरन्तरताव्यक्ति हो या कोई धरोहर सभी अपना स्वरूप निखारना जरूर चाहेंगे। मुझे भी यह अपेक्षा तो सदैव रहती आई है कि कभी न कभी मेरी भी सुध ली जाएगी। और अब ली गई है तो इसमें निरन्तरता बनी रही तो एक दिन निश्चित रूप से मेरे साथ मूण्डवा की पहचान देश दुनियां के पटल पर जरूर होगी। अभी भी पूराने घाटों की मरम्मत सहित कई काम होने हैं। इस बार पानी कुछ कम हुआ है तो पुराने घाटों की मरम्मत आसानी से हो जाएगी। वर्षों से खाली नहीं होने के कारण पानी गंदला हो जाता है। कई वर्षों से पानी के अन्दर होने वाला जाळा धीरे-धीरे समाप्त हो गया। जिससे पानी का शुद्धिकरण हुआ करता था, इसके लिए विशेषज्ञों की राय लेकर यह काम प्राथमिकता से हो इसकी अपेक्षा मुझे आप सभी से है। समय रहते प्रयास हुए तो स्वच्छ पेयजल की चिंता से मूण्डवा शहर तो निश्चित रहेगा।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/rl5EnQAA

📲 Get Nagaur News on Whatsapp 💬