[udaipur] - उदयपुर के सुखाडिय़ा विवि में चल रही भर्ती की विसंगतियों पर ये कहकर पल्ला झाड़ा इस अधिकारी ने

  |   Udaipurnews

उदयपुर . सुखाडिय़ा विश्व विद्यालय में इनदिनों चल रही भर्ती में बरसों से संविदा पर काम रहे कर्मचारी फिर सहायक कर्मचारी पद पर चयन से बाहर हो गए। बरसों से सेवा दे रहे इन संविदाकर्मी अनुभव पर रसूख की मार से खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। हालांकि इनकी संविदा पर सेवाओं पर फिलहाल खतरा नहीं है।

सहायक कर्मी भर्ती के लिए जो दक्षता परीक्षा 16 और 17 जनवरी को हुई। यह दस मिनट की सामान्य परीक्षा थी कि सभी ने तकरीबन सही उत्तर ही दिए थे, फिर भी वे चयन से वंचित रहे। विश्वविद्यालय के नियमित कार्यों से जुड़े दस-दस शब्द लिखवाए गए तो कुछ हल्के-फुल्के सवाल किए गए थे। इसके बाद 19 जून को विवि ने 15 सफल अभ्यर्थियों की सूची निकाली थी।

इनका दशकों का अनुभव काम नहीं आया- चम्पालाल गमेती- 1996 से कार्यरत (22 वर्ष )- दूधेलाल डांगी- 1996 (22 वर्ष )- सोहनसिंह - 2004 (14 वर्ष )- जगदीश- 2004 (14 वर्ष )- गोवद्र्धनसिंह- 2004 (14 वर्ष )- प्रकाश नागदा-2004 (14 वर्ष )- नारायणलाल व्यास 2005 (13 वर्ष )- छग्गन, भीमसिंह, प्रभुनाथ-2007 (11 वर्ष )

इनका कहना... चयन पूरी पारदर्शिता के साथ किया गया है। पहले परीक्षा और फिर दक्षता भी जांची गई है। इसके आधार पर वरीयता सूची तैयार हुई है, उनके अनुभव के आधार पर भी अंक दिए गए है। इसके बावजूद जो वरीयता में नहीं आए, उन्हें कैसे लिया जा सकता है।एचएस भाटी, रजिस्ट्रार सुखाडिय़ा विवि, उदयपुर

READ MORE: बालिकाएं हुनर से करेंगी सशक्तीकरण का सफर, कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम का आगाज

उदयपुर पत्रिका. राजकीय बालिका गृह में प्रवासरत बालिकाओं के लिए राजस्थान एवं आजीविका विकास निगम द्वारा प्रायोजित कौशल विकास कार्यक्रम का आगाज शुक्रवार को हुआ। राज्य बाल संरक्षण आयोग अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने चित्रकूट नगर स्थित बालिका गृह में दाढ़ीवाला स्पा सैलून तथा इंस्टीट्यूट की ओर से दिए जाने वाले ब्यूटी कल्चर प्रशिक्षण कार्यक्रम में शिरकत की। चतुर्वेदी ने बताया कि इस प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रमों के आयोजन से ये बालिकाएं सशक्त और आत्मनिर्भर बनेंगी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/p7K36gAA

📲 Get Udaipur News on Whatsapp 💬