[agra] - दहेज हत्या के तीन आरोपियों को बारह-बारह वर्ष के कारावास की सजा

  |   Agranews

फिरोजाबाद। थाना जसराना के मोहल्ला गाड़ीबान में दो वर्ष पूर्व दहेज की खातिर विवाहिता की जलाकर हत्या के मामले में विद्वान जनपद न्यायाधीश आरोपी सास,श्वसुर एवं पति को बारह-बारह वर्ष का कारावास की सजा एवं सभी पर दस-दस हजार का अर्थदंड लगाया है। अर्थदंड के अदा नहीं करने पर अतिरिक्त कारावास भोगना होगा। आगरा टेड़ी बगिया क्षेत्र की कृष्णाबाग कालोनी गली नं.दो निवासी शंकर लाल पुत्र श्रीनरायन ने अपनी पुत्री मोहनी का विवाह थाना जसराना के मोहल्ला गाडीवान निवासी राजू पुत्र भगवान सिंह के साथ 15 फरवरी 2013 को सामथ्र्य के अनुरूप दान दहेज देकर की थी।मोहिनी के ससुरालीजन अतिरिक्त दहेज में बाइक की मांग को लेकर परेशान करने लगे ते।मोहिनी के दो बच्चे आकाश तीन वर्ष व विकास छह माह थे। 26 सितंबर 2016 को वादी के भाई लक्ष्मन के ही पास फोन आई के उसकी बेटी मोहिनी की ससुरालीजनों ने जलाकर हत्या कर दी है। शंकरलाल जसराना पहुंचे तो देखा कि बेटी जमीन पर नग्नावस्था में पड़ी थी। पुलिस फोर्स एवं मोहल्ले के लोग थे। ससुरालीजन फरार हो गए थे। मृतका के पति राजू,ससुर भगवानदास, सास कमला देवी, जेठ नेपी व बौबी,जेठानी सविता के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी।मामले की विवेचना के बाद पति राजू,सास व श्वसुर के खिलाफ आरोपपत्र न्यायालय में प्रेषित किया था। जिला जज गोविंद बल्लभ शर्मा के न्यायालय में पहुंचा।न्यायालय ने आरोप लगाए और अभियुक्तगण ने आरोप से इंकार करते हुए सत्र परीक्षण की मॉग की। न्यायालय में तमाम गवाहों ने गवाही दी और वादी पक्ष की ओर से गवाहों के साथ जिला शासकीय अधिवक्ता नीरज यादव एडवोकेट ने उच्च न्यायालय की कई उदाहरण रखे। जिला जज ने पति राजू व श्वसुर भगवानदास व सास कमला देवी को दहेज हत्या का दोषी मानते हुए सजा सुनाई है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ES__6AAA

📲 Get Agra News on Whatsapp 💬