[gonda] - रेलवे का सामान बेंचते रंगेहाथ धरा गया पीडब्लूआई

  |   Gondanews

रेलवे का सामान बेचते पकड़ा गया सीनियर सेक्शन इंजीनियर गोंडा। छोटी से बड़ी लाइन में तब्दील हुई बहराइच रेल लाइन का 8 लाख रुपये कीमत का पुराना सामान 4 लाख में बेचने वाले सीनियर सेक्शन इंजीनियर को शनिवार सुबह रेलवे सुरक्षा बल ने रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। जबकि उनके साथ राजस्थान जयपुर के दो व्यापारियों को भी रेलवे सुरक्षा बल ने गिरफ्तार किया। जिनके कब्जे से एक ट्रक में लोड कर ले जाया जा रहा 30 टन रेलवे का सामान बरामद हुआ है। रेलवे सुरक्षा बल ने इस मामले में पकड़े गए तीनों लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। हालांकि अभी इस मामले में सीनियर सेक्शन इंजीनियर के खिलाफ किसी तरह की कोई विभागीय कार्रवाई नहीं हुई है। शुक्रवार को रेलवे सुरक्षा बल गोंडा के प्रभारी निरीक्षक प्रवीण कुमार व बस्ती के प्रभारी निरीक्षक नरेंद्र यादव को अपने किसी मुखबिर से सूचना मिली कि गोंडा रेलवे में तैनात सीनियर सेक्शन इंजीनियर निर्माण (पीडब्लूआई) हरिश्चन्द्र मिश्र ने बहराइच रेल लाइन से खाली हुए रेलवे के पुराने सामानों का जयपुर के किसी व्यापारी से सौदा किया है। जिसे लेने के लिए व्यापारी गोंडा पहुंच चुका है। रेलवे सुरक्षा बल को यह सूचना मिली ही थी कि गोंडा-बस्ती के प्रभारी निरीक्षक ने पीडब्लूआई को रंगे हाथ पकड़ने के लिए एक प्लान तैयार किया और शहर के मुन्नन खां चौराहे से ट्रक समेत जयपुर से आए दो व्यापारियों व पीडब्लूआई को गिरफ्तार कर लिया। ट्रक की तलाशी के दौरान उसमें बहराइच रेल लाइन का 30 टन पुराना सामान लदा पाया गया। जिसे रेलवे सुरक्षा बल ने अपने कब्जे मे ले लिया। जबकि पकड़े गए सीनियर सेक्शन इंजीनियर हरिश्चन्द्र मिश्र के पास से सवा लाख नकद भी बरामद किए गए। रेलवे सुरक्षा बल गोंडा, बस्ती के प्रभारी निरीक्षक ने संयुक्त रूप से बताया कि रेलवे का सामान बेचने वाले पीडब्लूआई हरिश्चन्द्र मिश्र के साथ ही रेलवे का सामान खरीदने वाले जयपुर राजस्थान के व्यापारी देंवेंद्र सिंह तोमर व अलवर राजस्थान के रणवीर सिंह के खिलाफ पूरे मामले में रेलवे सम्पत्ति अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। उनके मुताबिक ट्रक से बरामद सामान की कुल कीमत 8 लाख रुपए है। जिसका सौदा सीनियर सेक्शन इंजीनियर ने 4 लाख रुपए में जयपुर के व्यापारी से किया था। 13 रुपये में बेचा 27 रुपये का लोहा रेल लाइन से निकलने वाले लोहे की नीलामी रेलवे 27 रुपये प्रति किलो के रेट पर करती है। जिसे सीनियर सेक्शन इंजीनियर ने जयपुर के व्यापारियों के हाथ महज 13 रुपये में ही बेंच दिया। इन सामानों एसीबी प्लेट के साथ ही भारी मात्रा में सीएसटी 9 की प्लेटें थी। जिनका कुल वजन 30 टन होना बताया जा रहा है। यह सामानों का उपयोग रेल लाइन को मजबूती प्रदान करने के लिए किया जाता है। इस मामले में अभी उनके पास अभी तक कोई लिखित सूचना नहीं आई है। जैसे ही इस मामले में कोई लिखित सूचना उन्हें मिलती है। पीडब्लूआई के खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू हो जाएगी। अखिलेश त्रिपाठी, उपमुख्य इंजीनियर निर्माण

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/epD7dgAA

📲 Get Gonda News on Whatsapp 💬