[gorakhpur] - बिना मान्यता वाले 221 स्कूल बंद, 96 संचालकों पर केस दर्ज

  |   Gorakhpurnews

कुशीनगर हादसे के बाद चेते अफसरों ने शनिवार को बिना मान्यता संचालित स्कूलों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की। साथ ही शहर सहित 18 विकास खंडों के 221 स्कूल बंद करा दिए। 96 स्कूल संचालकों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया गया है। बंद स्कूलों के विद्यार्थियों को आसपास के विद्यालयों में दाखिला दिलाया जाएगा। छापेमारी से पूरे दिन हड़कंप रहा। तमाम स्कूल बंद कर संचालक भाग निकले।

कुशीनगर हादसे में 13 बच्चों की मौत के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अख्तियार किया था। इसका असर अब दिखने लगा है। शनिवार को बेसिक शिक्षा विभाग की अलग-अलग टीमों ने कक्षा एक से आठ तक चलने वाले 659 स्कूलों की जांच की। इसमें से 221 विद्यालय बिना मान्यता के चलते मिले। एडी बेसिक जेएन सिंह ने बताया कि कौड़ीराम विकास खंड के 23, चरगांवा के 26, पिपरौली के 20 और पिपराइच विकास खंड के 17 स्कूल संचालकों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया गया है। नगर क्षेत्र में बिना मान्यता स्कूल चलाने वाले 10 प्रबंधकों के खिलाफ केस दर्ज हुआ है। बिना मान्यता वाले स्कूलों के खिलाफ छापेमारी अभियान आगे भी जारी रहेगा। इससे पहले भी अभियान चलाकर 38 स्कूल बंद कराए गए थे।

शहर से गांवों तक फैला फर्जीवाड़े का जाल

स्कूलों के फर्जीवाड़े का जाल शहर से गांवों तक फैला है। कौड़ीराम विकास खंड के 10, चरगांवा 11, पिपरौली 8, उरुवा 17, भटहट 8, बेलघाट 13, गगहा 14, बड़हलगंज 18, बांसगांव 11, खोराबार 12, ब्रह्मपुर 13, गोला 14, खजनी 12, पाली 9, सहजनवां 11, जंगल कौड़िया 7, कैंपियरगंज 9, सरदार नगर 7, पिपराइच विकास खंड के 9 और नगर क्षेत्र के 8 बिना मान्यता वाले स्कूलों को बंद कराया गया है।

बिना मान्यता नहीं चलेगा कोई स्कूल : कमिश्नर

बिना मान्यता संचालित स्कूलों के खिलाफ छापेमारी अभियान जारी रहेगा। इसी सिलसिले में कमिश्नर अनिल कुमार ने शनिवार को बीएसए, डीआईओएस सहित तमाम अफसरों के साथ बैठक की। कमिश्नर ने कहा कि बिना मान्यता के कोई स्कूल नहीं चलेगा। इस तरह का एक भी स्कूल चलता मिला तो संबंधित अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

15 तक पूरा करें दाखिले का लक्ष्य

डीआईओएस ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह भदौरिया ने शनिवार को प्रधानाचार्यों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि कक्षा नौ में दाखिले का लक्ष्य 15 मई तक पूरा किया जाना चाहिए। यह काम प्रधानाचार्य और शिक्षकों को ही करना है। कक्षा पास करने वाले विद्यार्थियों को 100 फीसदी दाखिला दिलाने का लक्ष्य है। इसके लिए शासन सतर से एक कमेटी भी गठित की गई है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/mNGNAAAA

📲 Get Gorakhpur News on Whatsapp 💬