[kotdwar] - डीएम के आदेश पर नदियों से हटी जेसीबी और पोकलेन

  |   Kotdwarnews

कोटद्वार। जिलाधिकारी के निर्देश पर एसडीएम राकेश तिवारी ने शनिवार से खोह नदी में जेसीबी और पोकलेन मशीनों को हटवा दिया। बताया कि रिवर चैनलाइजेशन में अब मशीनों का उपयोग नहीं होगा। खोह नदी के साथ ही भाबर के तेलीस्रोत गदेरे में भी मशीनों से खनन कार्य रुकवा दिया गया है। प्रशासन के आदेश से पट्टाधारी खननकारियों में हड़कंप मचा है। खननकारियों ने अपने आकाओं के साथ जिला मुख्यालय और राजधानी में डेरा डाल दिया है। शनिवार को सुबह एसडीएम राकेश तिवारी की अगुवाई में राजस्व टीम खोह नदी में पहुंच गई। उन्होंने तुरंत खननकारियों से अपनी जेसीबी और पोकलेन मशीनें नदी से हटाने को कहा। एसडीएम ने तहसीलदार की अगुवाई में एक टीम भाबर के तेलीस्रोत गदेरे में हो रहे खनन को रोकने के लिए भेजी। प्रशासन ने खननकारियों को जिलाधिकारी गढ़वाल का फरमान सुनाया और कहा कि रिवर चैनलाइजेशन का कार्य मशीनों से नहीं, बल्कि मैन्युअल किया जाएगा। मशीनों का इस्तेमाल बंद करने के फरमान से खोह नदी और तेलीस्रोत गदेरे में खनन कार्य रुक गया है। खननकारियों ने अपनी जेसीबी मशीनें और पोकलेन नदियों के बाहर खड़े कर दिए हैं। पट्टेधारियों ने राजधानी में डेरा डालकर अपने आकाओं पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है। उधर, कोटद्वार भाबर की नदियों में चैनलाइजेशन के नाम पर नियम कानूनों के विरुद्ध चल रहे अवैध खनन पर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी ने गढ़वाल कमिश्नर दिलीप जावलकर, प्रमुख सचिव बाढ़ सुरक्षा एवं सिंचाई आनंद बर्द्धन और सचिव परिवहन डी सेंथिल पांडियन से बात कर इसकी खामियां बताते हुए एक कमेटी बनाने का सुझाव दिया है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/n8BwvQAA

📲 Get Kotdwar News on Whatsapp 💬