[meerut] - कैराना उपचुनाव: अखिलेश ने एक तीर से साधे दो निशाने, मुस्लिम, दलित, जाट समीकरण पर खेला दांव

  |   Meerutnews

प्रत्याशी सपा का और चुनाव चिन्ह रालोद का, कैराना उप चुनाव में सपा, बसपा और रालोद गठबंधन ने मुस्लिम, दलित और जाट समीकरण पर दांव खेला है। एक तीर से दो निशाने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने साधे हैं। उनके इस दांव से उप चुनाव में गठबंधन प्रत्याशी की हारजीत के साथ रालोद की प्रतिष्ठा भी जुड़ गई है, साथ ही 2014 के आम चुनाव में भाजपा के पाले में चले गए जाट वोटों को तबस्सुम को दिलाने की भी चुनौती है।

गठबंधन का यह फार्मूला काफी चौंकाने वाला रहा है, साथ ही राजनीतिक हल्कों में इसके नफे नुकसान को लेकर भी मंथन शुरू हो गया है। कैराना में विधान सभा चुनाव हो या लोकसभा चुनाव, यहां बाबू हुकुम सिंह और पूर्व सांसद मुनव्वर हसन परंपरागत प्रतिद्वंद्वी रहे हैं। मुनव्वर हसन के निधन के बाद 2009 लोकसभा चुनाव में उनकी पत्नी तबस्सुम बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ी थीं और भाजपा प्रत्याशी हुकुम सिंह को हराकर सांसद बनी थीं। 2014 के लोकसभा चुनाव में कैराना से तबस्सुम के बेटे नाहिद हसन सपा के टिकट पर चुनाव लड़े, उन्हें भाजपा प्रत्याशी हुकुम सिंह ने हरा दिया था। हुकुम सिंह के इस्तीफे से रिक्त हुई विधानसभा सीट पर हुए उप चुनाव में नाहिद हसन भाजपा प्रत्याशी अनिल चौहान को हराकर विधायक बने। 2017 के विधानसभा चुनाव में भी नाहिद हसन ने सपा के टिकट पर कैराना सीट से चुनाव लड़ा और भाजपा प्रत्याशी और हुकुम सिंह की पुत्री मृगांका सिंह को हराकर जीत दर्ज की। शुक्रवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और रालोद उपाध्यक्ष जयंत चौधरी के बीच लखनऊ में हुई वार्ता के बाद यह तय हो गया था कि सपा बसपा गठबंधन में रालोद भी शामिल हो रहा है। इसमें कैराना से सपा और नूरपुर से रालोद प्रत्याशी को चुनाव लड़ाने की बात सामने आई थी, सपा से तबस्सुम का नाम सामने आया, लेकिन इससे ध्रुवीकरण होने का अंदेशा भी था, देर रात मंथन के बाद यह तय हुआ कि रालोद के चुनाव चिन्ह पर तबस्सुम को लड़ाया जाए तो रालोद का परंपरागत जाट मतदाता भी उनके साथ जुड़ जाएगा। कुछ सपा नेताओं का भी मानना था कि रालोद को सीट देने से ध्रुवीकरण नहीं होगा। दलित और मुस्लिम मतों में जाट मतदाताओं के मिलने से एक मजबूत समीकरण बनेगा। रालोद के प्रदेश प्रवक्ता सुनील रोहटा ने बताया कि तबस्सुम हसन को गठबंधन की तरफ से कैराना लोकसभा सीट पर प्रत्याशी बनाना तय हो गया है।

पढ़ें : कैराना उपचुनाव 2018: भाजपा ने दलितों और पिछड़ों के बीच उतारे नेता

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/GGrOqgAA

📲 Get Meerut News on Whatsapp 💬