[roorkee] - बेतरतीब खुदाई से बीएसएनएल के 30 टावर खामेश

  |   Roorkeenews

रुड़की। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की बेतरतीब खुदाई शुक्रवार को बीएसएनएल और हजारों उपभोक्ताओं पर भारी पड़ी। शहर से देहात तक जगह-जगह ओएफसी (ऑप्टिकल फाइबर केबल) कटने से 30 टावर ठप हो गए। इससे बीएसएनएल की लीज लाइन, ब्रॉड बैंड और लैंड लाइन सेवाएं पूरी तरह ठप हो गई। कई बैंकों का कामकाज प्रभावित रहा और कई एटीएम भी बंद पड़े रहे। जिसकी वजह से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। आखिर शनिवार सुबह केबल जोड़ने पर उपभोक्ताओं ने राहत की सांस ली।शहर और इसके आसपास के क्षेत्र में पिछले दो साल से एडीबी (एशियन डेवलपमेंट बैंक) सीवर लाइन बिछाने के लिए जगह-जगह खुदाई करवा रहा है। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण और यूपीसीएल भी अपने-अपने कार्य करने को जगह-जगह खुदाई करवा रहे हैं। बीएसएनएल अधिकारियों के मुताबिक एडीबी बिना किसी पूर्व सूचना के जहां-तहां खुदाई कर दे रहा है। जिसके चलते विभाग की जगह-जगह केबल कट जा रही है। इससे बीएसएनएल की सारी सेवाएं ठप हो रही हैं। शुक्रवार को राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की ओर से पुहाना, रायपुर खुब्बनपुर, रोहालकी, सलेमपुर, इकबालपुर, शिवम नगर और राजपुताना नगर में खुदाई कर डाली। इससे केबल कट गई और बीएसएनएल के 30 टावर ठप हो गए। एक साथ इतने टावर बंद होने से बीएसएनएल के अधिकारियों में अफरातफरी मच गई। रात को मौके पर पहुंचकर अधिकारियों ने केबल जोड़ने का काम शुरू कराया। शनिवार सुबह करीब साढ़े छह बजे सभी केबल जोड़े गए। उसके बाद उपभोक्ताओं ने राहत की सांस ली। इससे पहले बीएसएनएल की ब्राडबैंड, लीज लाइन, लैंड लाइन और मोबाइल सेवा लेने वाले 50 हजार उपभोक्ता प्रभावित रहे। लीज लाइन कटने से पीएनबी, आंध्रा बैंक और बैक ऑफ बड़ौदा समेत करीब दस बैंक का कामकाज प्रभावित रहा। कई एटीएम ठप रहे। बीते दिनों गणेशपुर, रामनगर, अशोक मार्ग, मुख्य रामनगर द्वार, सोत मौहल्ला, चावमंडी, शेर सिंह राणा चौक, अशोक नगर, नहर पटरी का दांया हिस्सा, विश्वकर्मा चौक, राजेंद्र नगर, पुरानी रेलवे रोड व मच्छी मोहल्ला में खुदाई करने से केबल कटने से हजारों उपभोक्ता परेशान रहे। इन क्षेत्रों में अभी तक भी बीएसएनएल की सेवाएं पूरी तौर से चालू नहीं हो पाई हैं। इनसेटसंबधित विभाग सुनते नहीं, पुलिस दर्ज नहीं करती मुकदमा बीएसनएल के अधिकारियों के अनुसार उनकी कोई नहीं सुन रहा है। जब वह खुदाई को लेकर संबंधित विभागो के अधिकारियों से बात करते हैं तो वह कुछ सुनते नहीं है। यहां तक की सीधे मुंह बात नहीं करते हैं। जब वह थक हारकर पुलिस के पास पहुंचे तो वह भी कोई सुनवाई नहीं कर रही है। अधिकारियों के मुताबिक वह मुकदमे दर्ज कराने को लेकर रजिस्ट्री तक कर चुके हैं। इनसेटमानसिक बीमारी का शिकार हो रहे अधिकारी खुदाई के चलते बीएसएनएल को भारी आर्थिक चोट पहुंच रही है। अधिकारियों पर भारी दबाव पड़ रहा है। इसके चलते बहुत अधिकारी काम व तनाव के चलते मानसिक रोग का शिकार हो रहे हैं। एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि परेशानी के कारण कई अधिकारी अपने तबादले के प्रयास में लगे हैं। इनसेटबीएसएनएल के घट रहे उपभोक्ता लगातार केबिल कटने से बीएसएनएल की सेवाएं प्रभावित हो रही हैं। इसके चलते उपभोक्ताओं को बीएसएनएल की सेवाओं से मोहभंग होता जा रहा है। अधिकारियों के मुताबिक सेवाओं के प्रभावित होने के कारण बीएसएनएल के पुराने उपभोक्ता धीरे-धीरे नाता तोड़ रहे हैं। वहीं नए उपभोक्ता जोडने में पसीने छूट रहे हैं। इनसेटकेबिल में ज्वाइंट लगने से घट रही ब्रांडबैंड की स्पीड अधिकारियों के मुताबिक ब्राडबैंड कनेक्शन देते समय सिस्टम में सीधे तार लगाया जाता है। तार में कोई ज्वांइट नहीं होता है। इससे ब्राडबैंड की स्पीड अच्छी रहती है, लेकिन बार-बार केबिल कटने से स्पीड उसमे जगह-जगह ज्वाइंट लग रहे हैं। जिसके चलते ब्राडबैंड कछुआ चाल चलता है। इनसेटविभागों को भेजा एक करोड़ से अधिक क्लेम नोटिस खुदाई से हुए नुकसान को लेक बी एसएनएल ने संबंधित विभागों को एक करोड़ से अधिक का क्लेम भेजा है। अधिकारियों के मुताबिक बीते दो साल में विभाग को लंबा आर्थिक धक्का पहुंचा है। इसको लेकर बीएसएनएल ने एनएच को 70 लाख, यूपीसीएल को 4.50 लाख और एडीबी को 35 लाख का क्लेम भेजा है, लेकिन आज तक क्लेम की रकम नहीं मिली है। कोटबिना पूर्व सूचना खुदाई से विभाग को भारी नुकसान हो रहा है। इस संबंध में एडीबी, यूपीसीएल व एनएच को पत्र लिखा गया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। साथ ही पुलिस इस मामले में मुकदमा दर्ज नहीं कर रही है। अब विभाग मुकदमा दर्ज कराने को लेकर एसएसपी को पत्र लिख रहा है। अखिलेश गुप्ता, जीएम, बीएसएनएल हरिद्वार

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/q0hlGwAA

📲 Get Roorkee News on Whatsapp 💬