[sirmour] - विज्ञान-गणित में फिसड्डी सरकारी स्कूलों के छात्र

  |   Sirmournews

राजपाल शर्मा

सतौन (सिरमौर)।

दसवीं कक्षा के परीक्षा परिणामों ने सरकारी स्कूलों में गुणात्मक सुधार के दावों की पोल खोल दी है। सरकारी स्कूलों में गणित और विज्ञान विषयों ने विद्यार्थियों के परीक्षा परिणाम का गणित बिगाड़ दिया। कई सरकारी स्कूलों का परीक्षा परिणाम 50 फीसदी से भी कम है, जबकि गैर सरकारी स्कूलों ने सरकारी स्कूलों को पछाड़ते हुए शानदार प्रदर्शन किया।

गिरिपार क्षेत्र के गैर सरकारी स्कूलों में इस बार परीक्षा परिणाम सराहनीय रहा, वहीं पर सरकारी स्कूलों में गणित और विज्ञान विषयों में परीक्षा परिणाम का गणित खराब कर दिया। अब इसे सीसीटीवी कैमरे का कमाल समझे या फिर स्कूल की पढ़ाई का परिणाम।

गिरिपार के स्कूलों में अधिकतर छात्र गणित, विज्ञान और अंग्रेजी के विषय में फेल हुए हैं। हालांकि, कुछ स्कूलों में इन विषयों के पद रिक्त हैं लेकिन अधिकतर स्कूलों में पद भरे हुए हैं। परीक्षा परिणामों को देखते हुए क्षेत्र के अभिभावकों में चिंता दिख रही है। जबकि क्षेत्र के निजी स्कूलों का परिणाम देखें तो 80 फीसदी से 100 फीसदी तक रहा है।

हिम पब्लिक स्कूल सतौन का परिणाम 89 फीसदी, टीएफसी पब्लिक स्कूल सतौन का परिणाम 87 फीसदी रहा है। निजी स्कूलों के छात्र 70 फीसदी से अधिक अंक लेकर उत्तीर्ण हुए हैं। एसवीएम स्कूल कमरऊ का परिणाम 100 फीसदी रहा है। एसवीएन स्कूल कफोटा का परिणाम 89 फीसदी रहा है।

यदि सरकारी स्कूलों के परिणाम पर नजर डालें तो रावमापा शरली का परिणाम 78 फीसदी रहा है। बाकी का परिणाम 50 फीसदी के आसपास ही रहा। अधिकतर बच्चे गणित और विज्ञान विषय में कमजोर रहे हैं। कार्यवाहक उपनिदेशक उमेश बहुगुणा ने बताया कि अभी परिणाम कंपाइल नहीं हुए हैं जिस विषय में परिणाम खराब रहा है, उस विषय के अध्यापक को नोटिस जारी किया जाएगा।

बॉक्स के लिए----

सरकारी स्कूलों का परीक्षा परिणाम

स्कूल कुल छात्र पास फेल

कमरऊ 28 7 14

जाखना 32 17 15

शरली 23 18 5

सतौन 49 24 25

टटियाणा 49 11 38

बड़वास 4 2 2

काँटी मशवा 22 14 8

चौकिमृगवाल 6 3 3

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/InktzwAA

📲 Get Sirmour News on Whatsapp 💬