[ludhiana] - संदिगध परस्थितियों में खसरे का टीका लगने से बच्चीं की मौत का मामला

  |   Ludhiananews

सभी केंद्रखसरे का टीका लगने के बाद बच्ची की संदिग्ध मौतबठिंडा के सरकारी गर्ल्स स्कूल और रामपुरा में भी बच्चों की हालत बिगड़ीअमर उजाला ब्यूरो बठिंडा।खसरे के टीके से बठिंडा के सरकारी आदर्श स्कूल में पढ़ने वाली छह वर्षीय गुरनूर की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई, जबकि सरकारी गर्ल स्कूल में पढ़ने वाली निर्जला और हरजीत कौर की हालत टीका लगने के कारण बिगड़ गई। निर्जला की हालत नाजुक होने के कारण उसे सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने फरीदकोट मेडिकल अस्पताल रेफर कर दिया है। जानकारी के अनुसार सरकारी आदर्श स्कूल में चार मई शुक्रवार को सैकड़ों बच्चों को खसरे का टीका लगाया गया था। इन बच्चों में छह वर्षीय गुरनूर भी शामिल थी। शनिवार को दोपहर के बाद बच्चीं के परिजनों का स्कूल प्रबंधकों के पास फोन आया कि उनकी बेटी की टीका लगने के कारण मौत हो गई है। इसके बाद स्कूल प्रबंधकों ने तुरंत सेहत विभाग के अधिकारियों व जिला प्रशासन को सूचित किया। जिन्होंने बच्ची के परिजनों से संपर्क करने का प्रयास किया था। लेकिन बच्ची के परिजनों ने जो मोबाइल नंबर स्कूल प्रबंधकों को दिया था, वह बंद आ रहा था।इन स्कूलों में भी बीमार हुईं छात्राएंवहीं सरकारी गर्ल्स स्कूल में पढ़ने सातवीं कक्षा की निर्जला और दसवीं की हरजीत कौर की हालत बिगड़ी तो परिजन उन्हें तुरंत सिविल अस्पताल लेकर आए। जहां पर डॉक्टरों ने निर्जला की हालत को देखते हुए उसे फरीदकोट रेफर कर दिया, जबकि हरजीत कौर का उपचार शुरू कर दिया। दोनों छात्राओं को शनिवार ही स्कूल में टीका लगा था। शनिवार को रामपुरा क्षेत्र में भी 12 बच्चे खसरे का टीका लगने से बीमार हो गए। सभी को उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल में ले जाया गया। रविवार को सभी की हालत खतरे से बाहर बताई गई।दुष्परिणामों की जांच की जा रही हैरविवार को जैसे ही मामला मीडिया की सुर्खियों में आया तो जिले के सिविल सर्जन डाक्टर हरि नारायण ने एक प्रेस वार्ता कर बताया कि मीजल रुबेला एक ऐसी वैक्सीन है जो कई घातक बीमारियों का इलाज है। जिसे हर बच्चे को लगाना जरूरी है। कुछ बच्चों के सामने इसके दुष्परिणाम भी सामने आए हैं, इसकी जांच की जा रही है। हो सकता है कि बच्ची पहले किसी अन्य रोग से पीड़ित हो और वैक्सीन देने से उसकी हालत अस्थिर हुई। सिविल सर्जन ने दावा किया कि सही समय पर उपचार न मिलने के कारण बच्चीं की मौत आंत्रशोथ व निर्जलीकरण से हुई है। बिना पोस्टमार्टम बच्ची का अंतिम संस्कारखसरे का टीका लगने के बाद संदिग्ध परिस्थितियों में जान गंवाने वाली बच्ची का रविवार को उसके परिजनों ने बिना पोस्टमार्टम डाक्टरों व जिला प्रशासन की हाजिरी में गांव जय सिंह वाला में अंतिम संस्कार कर दिया।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/DA6rrgAA

📲 Get Ludhiana News on Whatsapp 💬