यूनेस्को की रिपोर्ट - 🇮🇳 भारत में पिछले एक साल में सबसे ज्यादा बार बंद किया गया 🖥️ इंटरनेट

  |   Hindiworldnews

यूनेस्को ने एक चौंकाने वाली रिपोर्ट जारी की है । इस रिपोर्ट के अनुसार एशियाई देशों में मई 2017 से अप्रेल 2018 के बीच इंटरनेट बंद होने में 97 मामले हुए । इसमें से अकेले भारत में 82 मामले थे । यूनेस्को इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट की ओर से हाल में जारी ‘क्लैंपडाउंस एंड करेज- साउथ एशिया प्रेस फ्रीडम रिपोर्ट 2017-18’ के अनुसार पाकिस्तान में इंटरनेट सेवा बंद होने की 12 घटनाएं हुईं जबकि अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका में ऐसी एक-एक घटनाएं हुई हैं ।

रिपोर्ट में कहा गया है, इंटरनेट सेवा बंद होने और इंटरनेट स्पीड को जानबूझकर धीमा करने की घटनाएं विश्व भर में बढ़ रही हैं और यह प्रेस की स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर नियंत्रण का पैमाना है । वैश्विक स्तर पर दक्षिण एशिया में इंटरनेट स्पीड धीमी होने के सबसे अधिक मामले सामने आए । वहीं, भारत में इंटरनेट सेवा बंद करने की सबसे अधिक घटनाएं हुई ।

बहुत सारे मामले में पाया गया है कि इंटरनेट सेवा बंद करने के पीछे कानून व्यवस्था का हवाला दिया जाता है और बहुत बार देखा गया है कि इसलिए भी इंटरनेट सेवा बंद हुई है क्योंकि संभावित हिंसा को रोकने के लिए प्रतिक्रियाशील उपाय के रूप में कदम उठाया गया है ।

भारत में सबसे ज़्यादा इंटरनेट सेवा बंद करने की घटनाएं कश्मीर में हुई हैं । लगभग आधे मामले सिर्फ कश्मीर में हुए हैं । संचार का माध्यम बंद करने के पीछे सैन्य कार्रवाई हैं, जिसमें आतंकवादी या आम नागरिकों की मौत हुई हैं । रिपोर्ट के अनुसार राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार और पंजाब में ऐसे 10 मामले देखे गए, जबकि हरियाणा में 10 से कम मामले देखे गए हैं, जहां इंटरनेट सेवा बंद हुई थी । इंटरनेट बंद करने के छह बड़े मामलों में पांच भारत में तो एक अफ़ग़ानिस्तान में हुआ था ।

फोटो के लिए देखें - http://v.duta.us/WOXwKAAA

📲 Get विश्व समाचार on Whatsapp 💬