[meerut] - सहारनपुर में जातीय हिंसा भड़काने की थी साजिश, जांच में सामने आया ये सच

  |   Meerutnews

सहारनपुर में दलितों पर अत्याचारों की अफवाह फैलाकर जातीय हिंसा भड़काने के लिए 3600 दलित युवकों को तैयार कर लिया गया था। इनका मकसद हिंसा फैलाकर पश्चिम उत्तर प्रदेश का माहौल खराब करना था। सोशल साइटों पर भड़काऊ वीडियो अपलोड कर युवकों को उकसाया जा रहा था। पुलिस ने इन आरोपियों के खिलाफ काफी सुबूत जुटा लिए हैं। सहारनपुर के एसएसपी बबलू कुमार ने कहा कि टीम को मेरठ भेजकर पकड़े गए लोगों से उनके षड्यंत्र के बारे में जानकारी की जाएगी। सभी आरोपियों को जेल भेज दिया गया।

एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार, आईजी रेंज रामकुमार और एसएसपी मेरठ राजेश कुमार पांडेय ने रविवार को प्रेसवार्ता कर जातीय हिंसा भड़काने की साजिश का सनसनीखेज खुलासा किया। दलित समाज से जुड़े छह आरोपी युवकों को मीडिया के सामने पेश किया।

एडीजी जोन ने बताया कि सहारनपुर में भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया के भाई सचिन वालिया की मौत और हरिद्वार में एक दलित किशोरी की रेप के बाद हत्या की बात कहकर दलित समाज के युवकों को सोशल साइट के जरिये भड़काया जा रहा था। आरोपियों का निशाना सहारनपुर में सचिन वालिया की मौत का बदला लेना था। इसको लेकर सहारनपुर जाने की तैयारी भी थी। सोशल साइटों पर ऐलान हो चुका था कि हत्या के बदले हत्या करनी है। पुलिस अफसरों के अनुसार इसी गिरोह ने विगत दो अप्रैल को एससी-एसटी एक्ट को खत्म करने की अफवाह फैलाकर दलित युवकों को पहले उकसाया। फिर मेरठ, हापुड़, मुजफ्फरनगर समेत कई शहरों में बवाल कराया था।

पढ़ें : भीम आर्मी के कार्यकर्ता की हत्या के बाद सहारनपुर में तनाव, सदमे में परिवार, तस्वीरें

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/7kAIUQAA

📲 Get Meerut News on Whatsapp 💬