[budaun] - भैंसोर नदी के पुनर्जीवन को किया श्रमदान

  |   Budaunnews

फोटो- 15 बीडीएनयूजेण्चपीएच-06 भैंसोर नदी के पुनर्जीवन को किया श्रमदानभाकियू कार्यकर्ताओं की टोली ने करुआ पुल के पास की खुदाई सिंचाई विभाग के अभियंता को ज्ञापन भी भेजा अमर उजाला ब्यूरो उझानी (बदायूं)। संभल से फर्रुखाबाद तक दबंग किसानों के चंगुल में फंसी भैंसोर नदी को पुनर्जीवित करने के लिए जोर देर रहे भारतीय किसान यूनियन (राष्ट्रवादी) के कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को अभियान शुरू कर दिया। कुुदाल और फावड़े लेकर करुआ पुल के पास पहुंचे कार्यकर्ताओं ने बरसात के दिनों में प्रवाह बरकरार रखने के लिए उबड़ खाबड़ स्थानों को समतल भी किया। श्रमदान करीब पांच घंटे तक चला। श्रमदान के लिए यूनियन के कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे महेंद्र सिंह की पुण्यतिथि के दिन को चुना। यूनियन के जिला महासचिव आसिम उमर और नगर अध्यक्ष चंद्रमोहन वर्मा की अगुवाई में कार्यकर्ताओं की टोली सुबह करुआ पुल के पास पहुंची। करुआ पुल भैंसोर नदी पर ही बना है। श्रमदान के दौरान कार्यकर्ताओं ने भैंसोर पर बरसाती पानी के प्रवाह में अवरोधक साबित होने वाले टीलों को ढहा दिया। उबड़ खाबड़ भूमि को समतल भी किया। खास बात तो यह कि यूनियन में शामिल महिला कार्यकर्ताओं ने भी हिस्सा लिया। यूनियन के जिला जिलाध्यक्ष कृष्णऔतार शाक्य और महासचिव आसिम उमर ने बताया कि भैंसोर को पुनर्जीवित करने के लिए वह सिंचाई विभाग और बाढ़ खंड के अफसरों को अवगत करा चुके हैं। भैंसोर पर संभल से लेकर फर्रुखाबाद तक दबंग किसानों ने कब्जा कर रखा है। एक समय सदानीरा कहे जाने वाली भैंसोर को लेकर अफसर कब्जे की बात तो स्वीकार कर चुके हैं लेकिन उसे कब्जा मुक्त कराने का प्रयास नहीं करते। श्रमदान में अमरसिंह, शाकिर हुसैन, रामस्वरूप वर्मा, दुर्वेंद्र चौहान, प्रेमवती, फूलवती, श्रीराम यादव, वीरवती वर्मा आदि शामिल रहे।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/N9lNKAAA

📲 Get Budaun News on Whatsapp 💬