[haridwar] - घर में घुसकर हमले में भाजयुमो नेता गिरफ्तार, पुलिस ने लाठियां फटकारी

  |   Haridwarnews

अमर उजाला ब्यूरोहरिद्वार। कनखल क्षेत्र के राजा गार्डन में भाजयुमो नेता अमरदीप चौधरी और गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष अमित कुमार उर्फ अंकुर ने एक प्रॉपर्टी डीलर और उसके परिचित की घर में घुसकर पिटाई कर दी। हरकत में आई पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया आरोपियों को छुड़ाने पहुंचे समर्थकों का थाने पर हंगामा खड़ा करने पर पुलिस ने लाठियां फटकार कर उन्हें खदेड़ा। पेशे से चालक राजीव पुत्र सिंकदर परिवार के साथ राजा गार्डन में रहते हैं। रविवार रात को उनका परिचित पेशे से प्रॉपर्टी डीलर आशीष उर्फ पिंटू राठी भी उनके घर पर मौजूद था। इसी दौरान भाजयुमो नेता अमरदीप चौधरी पुत्र नैन सिंह निवासी जगजीतपुर एवं अंकुर उर्फ अमित कुमार पुत्र अरुण निवासी कृष्णा निवास जगजीतपुर अपने दस-बारह समर्थकों के साथ घर में घुस आया। आरोप है कि उन्होंने प्रॉपर्टी डीलर पिंटू राठी की पिटाई कर दी। बीच- बचाव में आए राजीव एवं उसके बेटे आशीष को भी हमलावरों ने नहीं बख्शा। राजीव की पत्नी की ओर से सूचना देने पर पहुंची पुलिस ने हमले के आरोपी अमरदीप चौधरी तथा अंकुर को मौके पर पकड़ लिया जबकि उनके समर्थक फरार होने में कामयाब रहे। इधर, पूर्व भाजयुमो नेता एवं छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष को हिरासत में लेने के बाद थाने पर समर्थकों एवं गुरुकुल के छात्रों की भीड़ उमड़ पड़ी। थाने पर हंगामा होने पर ज्वालापुर पुलिस को भी मौके पर बुला लिया गया। पुलिस अधिकारियों के समझाने पर जब भी समर्थक शांत नहीं हुए तब पुलिस ने लाठियां फटकार कर उन्हें खदेड़ा। रात भर समर्थक थाने के इर्द गिर्द मंडराते रहे। थानाध्यक्ष ओमकांत भूषण ने बताया कि हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि समर्थकों की तलाश जारी है। पैरवी को पहुंचे नेताओं को सुनाई खरी- खोटी हमलावरों की पैरवी में पहुंचे नेताओं को भी एसओ ओमकांत भूषण ने खरी- खोटी सुनाई। आरोपियों की पैरवी में भाजपा नेता देवेंद्र प्रधान की अगुवाई में कई भाजपाई थाने पहुंचे थे, लेकिन एसओ ने उनकी एक बात नहीं सुनी। एसओ ने दो टूक कहा कि इस तरह के असामाजिक तत्वों की पैरवी करना ठीक नहीं है। अमरदीप की क्षेत्र में दहशत पूर्व भाजयुमो पदाधिकारी अमरदीप चौधरी की क्षेत्र में दहशत है। उसके खिलाफ गुंडा एक्ट की कार्रवाई होने के साथ ही उसे जिला बदर भी किया गया था। बाद में गढ़वाल आयुक्त ने डीएम के जिला बदर के आदेश को रद्द कर उसे राहत दी थी। उसके खिलाफ कई मुकदमें दर्ज हैं और आए दिन उसका क्षेत्र में तांडव मचाना आम बात है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/2w71pQAA

📲 Get Haridwar News on Whatsapp 💬