[pilibhit] - पिता, दो पुत्रों और पुत्री को आजीवन कारावास, जुर्माना

  |   Pilibhitnews

पिता, दो पुत्रों और पुत्री को आजीवन कारावास, जुर्मानागैर इरादतन हत्या में कोर्ट ने सुनाया फैसलाअमर उजाला ब्यूरो पीलीभीत।अपर सत्र न्यायाधीश संजीव कुमार शुक्ला ने गैर इरादतन हत्या के चार वर्ष पुराने मामले में शफी अहमद, उसके दो पुत्रों और एक पुत्री को दोषी पाकर आजीवन कारावास और प्रत्येक को आठ हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई है।थाना जहानाबाद पर 30 जून 2014 को नन्हे बख्श ने सूचना दर्ज कराई। जिसके अनुसार शफी अहमद उसके दो पुत्र आसिफ, शाहिद और पुत्री जीनत उसके पड़ोसी हैं। इन लोगों से दीवार को लेकर झगड़ा हुआ था। उसका फैसला हो गया था, लेकिन उसी बात की रंजिश मानकर 30 जून 2014 को सुबह सात बजे इन चारों लोगों ने गालियां देते हुए लाठी-डंडों से मारपीट की। जिससे नन्हे बख्श उसके पुत्र आरिफ, इकबाल और कनीज को चोटें आईं। पुलिस ने इस सूचना पर धारा 323, 504 आईपीसी में एनसीआर दर्ज की। घायलों का इलाज सरकारी अस्पताल जहानाबाद में कराया गया। उसी दिन जिला अस्पताल में एक्सरे भी हुआ। जिसमें नन्हे बख्श की हड्डी टूटी पाई गईं। इलाज के दौरान घटना वाले दिन दोपहर को जिला अस्पताल पीलीभीत में नन्हे बख्श की मौत हो गई। उसके बाद पुलिस ने इस मामले को गैर इरादतन हत्या में तरमीम कर दिया। पुलिस ने विवेचना के बाद आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल किया। मामले की सुनवाई अपर सत्र न्यायाधीश संजीव कुमार शुक्ला की अदालत में हुई। सुनवाई के बाद न्यायालय ने शफी अहमद उसके पुत्र आसिफ, शाहिद और पुत्री जीनत को दोषी पाकर प्रत्येक को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। चारों आरोपियों पर आठ-आठ हजार रुपये जुर्माना भी लगाया गया है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/Xzs8bQAA

📲 Get Pilibhit News on Whatsapp 💬