[rampur-bushahar] - दोषी अधिकारियों के खिलाफ होगी कार्रवाई

  |   Rampur-Bushaharnews

अमर उजाला ब्यूरो

रोहड़ू।

छोटे बागवानों के कब्जे हटाने के विरोध में किसान सभा का जुब्बल तहसील मुख्यालय में रात करीब एक बजे तक हंगामा चलता रहा। शिमला से एडीएम जीसी नेगी व डोडरा क्वार से एसडीएम बीआर शर्मा के पहुंचने पर रात करीब एक बजे मामला शांत हुआ। किसान सभा व क्षेत्र के दर्जनों बागवान प्रशासन से डीएफओ रोहड़ू के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग कर रहे थे।

आखिर प्रशासन ने आश्वासन दिया कि मामला सरकार को भेजा जाएगा। यदि जांच के दौरान छोटे किसानों की बेदखली में डीएफओ व प्रदेश उच्च न्यायालय की ओर से बनाई गई एसआईटी की कोई चूक पाई गई तो जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ जांच के बाद मामला दर्ज किया जाए। रात करीब एक बजे बागवानों ने प्रशासन के आश्वासन पर 21 मई तक आंदोलन को स्थगित किया है। गौर रहे कि दर्जनों लोगों ने किसान सभा के साथ मिलकर सोमवार को दिन में करीब एक बजे से नायब तहसीलदार जुब्बल के कार्यालय में धरना दिया। आधी रात तक लोगों ने नायब तहसीलदार को कार्यालय के भीतर घेर कर रखा। सूचना के बाद शाम के समय डीएसपी अनिल शर्मा मौके पर पहुंचे। लेकिन लोग बार-बार वन भूमि से छोटे बागवानों की बेदखली रोकने व डीएफओ रोहड़ू की गिरफ्तारी और मामला दर्ज करने की मांग पर अडे़ रहे। रोहड़ू के एसडीएम सोमवार को डोडरा क्वार के दौरे पर थे। करीब सात बजे एसडीएम को जुब्बल पहुंचने के निर्देश जारी हुए। किसान सभा की ओर से मौके पर ठियोग के विधायक राकेश सिंघा, एमसी शिमला के पर्व मेयर संजय चौहान सहित क्षेत्रीय इकाई के कई लोग उपस्थित थे।

आठ बजे के बाद जुटी भीड़

जुब्बल के नायब तहसीलदार के कार्यालय में धरने पर बैठे लोगों की संख्या करीब सात बजे करीब 50 रह गई थी। धरने पर बैठे लोगों ने गांव में फोन कर सहयोग की अपील की। करीब आठ बजे लोगों की संख्या फिर 100 से अधिक हो चुकी थी। जोश में बार-बार डीएफओ, एसआईटी के खिलाफ नारेबाजी होती रही।

बंद कमरे में बनाई प्रदर्शन की रणनीति

एक बजे प्रशासन के साथ बैठक के बाद किसान सभा के पदाधिकारियों ने फिर बंद कमरे में प्रदर्शन को लेकर रणनीति बनाई। इसमें तय किया गया कि छोटे बागवानों को सहयोग में आगे आने की जरूरत है। बडे़ कब्जा धारकों पर एसआईटी की कार्रवाई होना तय है। लेकिन सेब के हरे पेडों को काटने से रोकने के लिए न्यायालय के सामने दलील दी जाए।

अधिकारियों, प्रदर्शनकारियों को नहीं मिला खाना

जुब्बल में दिन भर आंदोलन पर बैठे लोगों को रात का खाना नसीब नहीं हो सका। वहां पर मध्यस्थता के लिए पहुंचे अधिकारी व कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए तैनात पुलिस के जवानों को भी रात का खाना नहीं मिला।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/mMw9FAAA

📲 Get Rampur Bushahar News on Whatsapp 💬