[shahjahanpur] - खन्नौत नदी के किनारे पहुंचा बाघ

  |   Shahjahanpurnews

खन्नौत नदी के किनारे दिखा बाघ0 श्रमिकों ने खेतों में काम करने से किया इंकार, गन्ने की गुड़ाई प्रभावित 0 दूसरे दिन भी की गई बाघ की तलाश में कांबिग फोटो-38,खन्नौत नदी के पास खेतों में बाघ की तलाश करते लोग, पीछे हैं वनकर्मी फोटो-39,खेत में बाघ का पगचिह्न दिखाता वनकर्मी अमर उजाला ब्यूरो बंडा। बंडा क्षेत्र में घूम रहे बाघ ने वन विभाग और गांव के लोगों की सक्रियता के चलते अपना ठिकाना बदल दिया है। बाघ खन्नौत नदी के किनारे झाड़ियों में पहुंच गया है। बाघ के डर से श्रमिकों ने नदी के किनारे खेतों में काम करने से इंकार कर दिया है। रविवार रात बाघ गांव कुइयां महोलिया के सुखदेव सिंह के झाले के पास जाकर दहाड़ने लगा। सुखदेव सिंह ने परिवार के लोगों के साथ घर में पड़ी टीन को पीटना शुरू कर दिया और शोरशराबा किया तो बाघ चला गया। गांव के मेजर सिंह ने शोरशराबा सुनकर वन विभाग की टीम को बाघ होने की जानकारी दी। रात में वनकर्मी मौके पर नहीं पहुंचे। सोमवार 11 बजे वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और गांव के लोगों के साथ बाघ की तलाश में कांबिग की। गांव के लोगों का आरोप है कि वन विभाग की टीम गांव के लोगों को आगे कर लेती है और खुद पीछे चलती है। बाघ की तलाश करवाना और उसे जंगल की ओर खदेड़वाना उनकी मजबूरी है, क्योंकि बाघ होने की जानकारी फैलने के बाद श्रमिकों ने खेतों में काम करने से इंकार कर दिया है, इससे गन्ने की गुड़ाई का काम रुक गया है। गांव कुइयां महोलियां के सुखदेव सिंह, जसवंत सिंह, गुरदीप सिंह, परगट सिंह, बख्शीष सिंह, करनैल सिंह, रणजीत सिंह, सतनाम सिंह, मेजर सिंह, फकीर सिंह, गुलाब सिंह, तार सिंह, जसपाल सिंह सहित तमाम लोगों ने कांबिग में वन विभाग की टीम का साथ दिया। 00 गांव के लोगों को भी खतरा बंडा। कांबिग में वन विभाग की टीम जिस तरह गांव के लोगों को शामिल कर रही है, इससे गांव के लोगों को भारी खतरा है। कांबिग में वनकर्मी दूर चलते हैं, जबकि गांव के लोग झाड़ियों के नजदीक तक जाकर शोर शराब कर रहे हैं। तमाम लोगों के हाथ में केवल डंडा ही होता है। ऐसे में यदि किसी का बाघ से सामना हो गया तो बाघ के हमले में जान जाते देर नहीं लगेगी। इसके अलावा यदि भीड़ को बाघ दिख गया और लोगों ने बाघ पर हमला कर दिया तो बाघ की भी जान जा सकती है। साफ है कि वनकर्मियों की अदूरदर्शिता लोगों की जान पर भारी पड़ सकती है। खुटार रेंज कार्यालय प्रभारी अशोक चतुर्वेदी का कहना है कि लोग तमाशबीन बनकर टीम के साथ चल देते हैं और मना करने पर भी नहीं मानते हैं। लोगों को समझाया जाएगा।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/HSxTvwAA

📲 Get Shahjahanpur News on Whatsapp 💬