[shahjahanpur] - शहद का सेवन करने से परिवार के सात लोग हुए बेहोश

  |   Shahjahanpurnews

शहद का सेवन करने से परिवार के सात लोग बेहोश0 गांव में मची खलबली, सरकारी अस्पताल में कराया गया भर्ती फोटो-43,44,45,46 अमर उजाला ब्यूरो खुटार। शहद का सेवन करने से एक ही परिवार के सात सदस्य बेहोश हो गए। तीन घटे बाद परिवार के लोगों को जानकारी मिली तो 108 सेवा की एंबुलेंस से सभी को खुटार के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। गांव रायपुर पटियात निवासी 50 वर्षीय मोहनलाल अपने घर पक्की दीवार बनवाना चाहता था। इसके लिए सोमवार दोपहर बाद घर में खड़ी कच्ची दीवार तोड़ना शुरू किया गया तो दीवार के अंदर मधुमक्खियों को छत्ता लगा मिला। मोहनलाल ने मधुमक्खियों को भगाकर छत्ते को तोड़कर शहद निकाला। इसके बाद शाम चार बजे मोहनलाल, मोहनलाल की पत्नी मोहिनी देवी, 26 वर्षीय पुत्री सोनी देवी, सोनी की सात माह की पुत्री, मोहनलाल की 17 वर्षीय पुत्री मालती, 11 वर्षीय पुत्र अमित, मोहन का पांच वर्षीय भांजे करन ने शहद का सेवन कर लिया। शहद का सेवन करते ही सभी लोग बेहोश होकर घर में ही गिर पड़े। तीन घंटे बाद शाम सात बजे गांव की एक महिला मोहनलाल के घर पहुंची तो परिवार के सदस्यों को बेहोश पड़ा देखा। इसके बाद गांव के लोगों को जानकारी मिली तो खलबली मच गई। पूर्व प्रधान विजय सिंह ने मामले की जानकारी मीडिया और 108 सेवा पर दी। उधर जानकारी पाकर सोनी का पति भी ससुराल पहुंचा और सोनी को इलाज के लिए गोला ले गया। सवा सात बजे एंबुलेंस गांव पहुंची और बेहोश पड़े लोगों को खुटार के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया। 00 कई बार फोन करने के बाद भी नहीं पहुंची एंबुलेंस खुटार। गांव रायपुर के धर्मपाल ने बताया कि मोहनलाल के परिवार के बेहोश होने की जानकारी पाकर उन्होंने कई बार 108 सेवा पर कई बार फोन कर एंबुलेंस भिजवाने की मांग की गई, लेकिन कहा गया कि एंबुलेंस खराब है। इसके बाद गांव के लोगों ने फिर से कई बार कॉल की तो खीरी जनपद के मैलानी से एंबुलेंस को गांव भेजा गया। इसके बाद बेहोश हुए लोग साढ़े सात बजे खुटार अस्पताल पहुंच सके। 108 सेवा की खुटार की एंबुलेंस बेहद खराब हालत में पहुंच चुकी है और अक्सर खराब रहती है। 00 फफूंद ने शहद को कर दिया जहरीला खुटार। खुटार के सरकारी अस्पताल के प्रभारी डॉ. संदीप वर्मा ने बेहोश लोगों को चेकअप करने के बाद इलाज शुरू किया। आधे घंटे में ही परिवार के लोग होश में आना शुरू हो गए। उन्होंने बताया कि मधुमक्खियों ने दीवार में काफी पुराना छत्ता लगा रखा होगा। छत्ते पर फफूंद जम जाने के कारण शहद जहरीला हो गया। मोहनलाल के परिवार के लोगों ने छत्ते के साथ ही फफूंद को भी शहद में निचोड़ लिया और उसका सेवन कर लिया, जिस कारण सभी लोग बेहोश हो गए। मोहनलाल सहित परिवार के सभी सदस्य खतरे से बाहर हैं और इलाज के बाद उनको छुट्टी दे दी जाएगी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/2EodBQAA

📲 Get Shahjahanpur News on Whatsapp 💬