[varanasi] - जिला कारागार में सांप्रदायिक तनाव, दो बंदियों को दूसरी जेल भेजने का आदेश

  |   Varanasinews

जौनपुर। जिला कारागार में अल्पसंख्यक बंदी जावेद को हत्यारोपी दो बंदियों द्वारा पीटने से स्थिति तनावपूर्ण हो गई है। इसका हवाला देते हुए जेल अधीक्षक ने कोर्ट में दरखास्त दिया। जिस पर अपर सत्र न्यायाधीश तृतीय अशोक कुमार ने पीटने वाले दोनों बंदियों सतीश सिंह को बांदा जेल व विकास सिंह को फतेहपुर जेल भेजने का आदेश दिया है। साथ ही दोनों जेल अधीक्षकों को चल रहे हत्या के मुकदमे में गवाही की तिथि 18 मई को दोनों बंदियों को अवश्य पेश करने का आदेश दिया। सुजानगंज थाना क्षेत्र के प्यारेपुर गांव में सात सितंबर 2016 की रात मुरली यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। आरोपी सतीश सिंह निवासी मड़ियाहूं, विकास सिंह निवासी प्रतापगढ़ व दीपक आदि आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में दाखिल हुई। जेल अधीक्षक ने कोर्ट में दरखास्त दिया कि सतीश व विकास जेल में ्िनरुद्ध है। दोनों अंतर्जनपदीय शातिर व खतरनाक किस्म के हैं। छह मई 2018 की शाम विकास, सतीश व विपिन आदि ने बंदी जावेद को मारपीट कर चोटें पहुंचाईं। उसका उपचार हुआ। घटना के बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया। पीटे गए बंदी के मुस्लिम समुदाय का होने के कारण कारागार में किसी भी समय सांप्रदायिक हिंसा होने की संभावना पैदा हो गई। आरोपी की हिस्ट्रीशीट भी कोर्ट में दाखिल की गई। इसे गंभीरता से लेते हुए कोर्ट ने सतीश, विकास व अन्य आरोपियों के खिलाफ मुरली यादव की हत्या व हत्या के षड्यंत्र में आरोप तय किया। साथ ही सतीश सिंह को बांदा जेल व विकास सिंह को फतेहपुर जेल भेजने का आदेश दिया है। हाई कोर्ट द्वारा प्रकरण के त्वरित निस्तारण के निर्देश का कोर्ट ने हवाला देते हुए जेल अधीक्षक को आदेश दिया कि नियत तिथि पर दोनों बंदियों को पेश करें। पूर्व में बंदी विकास व सतीश ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया था कि 16 फरवरी2018 को प्रकरण के त्वरित निस्तारण का हाई कोर्ट ने आदेश दिया है। आरोप तय नहीं हो रहा है। उन्हें जौनपुर जेल में रखकर ्प्रकरण का त्वरित निस्तारण किया जाए। लेकिन बंदी जावेद की पिटाई के बाद जेल अधीक्षक की दरखास्त पर दोनों बंदियों को वापस दूसरे जेलों में भेजने का आदेश हुआ।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/qLTvRgAA

📲 Get Varanasi News on Whatsapp 💬