कर्नाटक 🗳️विधानसभा चुनाव- विधायकों को 👎टूट से बचाने के लिए तीनों दलों 😱की मोर्चेबंदी

  |   समाचार / PM Modi News

कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए बीजेपी और कांग्रेस खेमे में मोर्चेबंदी शुरू हो गई है। कांग्रेस विधायकों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए जी। परमेश्वर कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के दफ्तर पहुंच गए हैं, लेकिन खबर आ रही है कि तीन विधायक बैठक में नहीं पहुंचे हैं। इससे गठबंधन खेमें में हड़कंप मचा हुअा है।

दूसरी ओर बुधवार को 11 बजे बीजेपी विधायक दल की बैठक होने वाली है, जिसमें मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा को पार्टी विधायक दल का नेता चुना जाएगा। इसके बाद येदियुरप्पा से राज्यपाल से आधिकारिक रूप से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

बीजेपी विधायक दल की बैठक में बीजेपी के वरिष्ठ नेता भी शामिल होंगे। इस बीच नवनिर्वाचित निर्दलीय विधायक आर। शंकर ने बीजेपी नेता ईश्वरप्पा के साथ येदियुरप्पा से मुलाकात की है। ईश्वरप्पा ने दावा किया कि बीजेपी के पास जेडीएस और कांग्रेस के कुछ विधायकों का समर्थन है।

बीजेपी विधायक बसवाराज बोम्मई ने कहा कि राजनीति संभावनाओं का खेल है। हम देखेंगे कि पूरी प्रक्रिया कैसे आगे बढ़ती है, लेकिन राज्यपाल को फैसला करना है कि क्या सही और क्या नहीं। कांग्रेस की बैठक के बाद 11 बजे जेडीएस ने भी वसंतनगर में अपने विधायक दल की बैठक बुलाई है।

हालांकि इन सबके बीच सभी की राज्यपाल पर टिकी हैं कि सरकार बनाने के लिए वे पहले किसको निमंत्रित करते हैं। राज्यपाल के पास अभी दो विकल्प हैं, पहला ये कि वे सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को पहले बुलाएं और बहुमत साबित करने के लिए कहें या फिर जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन को सरकार बनाने के लिए न्यौता दें, जोकि जादुई आंकड़े का दावा कर रहे हैं।

संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप का कहना है कि ये पूरी तरह राज्यपाल पर निर्भर है कि वे सरकार बनाने के लिए पहले किसे आमंत्रित करते हैं। सबसे बड़ी पार्टी को, या गठबंधन सरकार को।

यहां देखें फोटो-http://v.duta.us/JkX_zAAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬