[agra] - सीवर टैंक में सफाईकर्मी की मौत पर बवाल

  |   Agranews

मथुरा। बुधवार की सुबह साढ़े दस बजे होलीगेट क्षेत्र में सीवर टैंक में सफाई करते समय बनी गैस से एक सफाई कर्मचारी की मौत हो गई, जबकि तीन बेहोश हो गए। जानकारी पाकर जिला अस्पताल पहुंचे सफाई कर्मियों ने हंगामा शुरू कर दिया। नगर निगम आफिस को बंद करा दिया गया। भरतपुर गेट चौराहे पर शव रखकर जाम लगाया गया। करीब ढाई घंटे के जाम के बाद नगर निगम ने तीन लाख की नकद सहायता दी तथा दो लाख और, नौकरी देने का आश्वासन दिया तब जाकर लोग माने।नगर निगम के सफाई कर्मी रूपेश पुत्र निन्नू (30) अपने साथी गोविंद, संजय और मोहित के साथ अंतापाड़ा में प्रेम होटल के सामने के सीवर टैंक की सफाई करने गए थे। रूपेश और गोविंद सीढ़ी के सहारे सीवर में जैसे ही उतरे बेहोश हो गए। उन्हें बेहोश होते देख उनके साथी उन्हें निकालने को नीचे गए तो वह भी बेहोश हो गए। इसी दौरान यहां से गुजर रहे लोगों की नजर पड़ी तो शोर मचा दिया और पास में मौजूद सफाई नायक महेश काजू ने आसपास के लोगों की मदद से तीनों को बाहर निकाला और जिला अस्पताल ले गए। जिला अस्पताल में चिकित्सकों ने रूपेश को मृत घोषित कर दिया और बाकी को नयति के लिए रेफर कर दिया। रूपेश की मौत से सफाई कर्मचारी भड़क गए और हंगामा शुरू कर दिया। अस्पताल में पहुंचे नगर आयुक्त समीर वर्मा को घेर लिया गया। नारेबाजी शुरू कर दी। बाद में नगर निगम के आफिस को बंद करा दिया गया। सफाई कर्मचारी नगर निगम में ही धरना देकर बैठ गए। रूपेश की पत्नी को नौकरी देने की मांग करने लगे। जब अपर नगर आयुक्त सुशीला अग्रवाल के साथ हुई बातचीत में कोई हल नहीं निकला तो गुस्साए सफाई कर्मचारी रूपेश के शव को लेकर भरतपुर गेट चौराहा पर पहुंच गए और जाम लगा दिया। इससे आसपास की दुकानें भी बंद हो गईं। जाम लगा रहे परिजन के पास पहुंचे एडीएम प्रशासन, एडीएम वित्त और संयुक्त नगर आयुक्त ने नगर निगम की और से तीन लाख रुपये की नकद सहायता राशि प्रदान की। दो लाख दो दिन में देने का आश्वासन दिया। साथ ही परिवार के दो सदस्यों को नौकरी दिए जाने का का आश्वासन भी दिया गया। इसके बाद ही जाम खुल सका।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/VAyqNQAA

📲 Get Agra News on Whatsapp 💬