[aligarh] - एएमयू--बीमार होकर इमरजेंसी पहुंचे कई अनशनकारी-Cordination

  |   Aligarhnews

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़। अपनी मांगों को लेकर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र- छात्राओें की भूख हड़ताल चौथे दिन भी मुख्य प्रवेश द्वार बाब-ए-सैयद पर जारी है। भीषण गर्मी में तबियत खराब होने के कारण भूख हड़ताल पर बैठे कई छात्र-छात्राओं को उपचार के लिए जेएन मेडिकल कॉलेज के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराना पड़ा। छात्र संघ के पूर्व सचिव नबील उस्मानी एवं कोर्ट सदस्य शहबाज ने उपचार के साथ-साथ अपनी परीक्षाएं जेएन मेडिकल कॉलेज में ही दी। इसके लिए वहां परीक्षक एवं सुरक्षाकर्मी लगाए गए। जिन्ना विवाद के बाद शुरू हुए धरने को मंगलवार से 14 दिन पूरे हो गए। तबियत खराब होने के बाद मंगलवार को छात्र संघ के पूर्व सचिव नबील उस्मानी, कोर्ट सदस्य शहबाज, कैबिनेट सदस्य मो. नदीम, छात्र नेता कुंवर मोहम्मद अहमद, इमरान खान, अफजल, छात्रा आरफा, सुमैया, रीबा, इकरा, बेबी परवीन आदि को जेएन मेडिकल कॉलेज के इमरजेंसी में भर्ती कराया गया। धरना स्थल पर चिकित्सक भूख हड़ताल पर बैठे छात्र संघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी, उपाध्यक्ष सज्जाद सुभान रॉथर, सचिव मो. फहद, पूर्व अध्यक्ष फैजुल हसन, उमर फारूक आदि की नियमित परीक्षण कर रहे हैं। खराब तबियत को देखते हुए चिकित्सकों एवं छात्रों के आग्रह पर तीन छात्राओं ने जूस पीकर अनशन खत्म कर दिया। कैबिनेट सदस्य मो. नदीम ने बताया कि आरफा एवं सुमैया जूस पीने से इंकार कर चुकी हैं। चिकित्सकीय जांच में भूख हड़ताल पर बैठे किसी छात्र का रक्तचाप कम हो गया तो कई का शुगर लेवल कम पाया गया है। अन्य दूसरी परेशानियां भी अनशन पर बैठे छात्र महसूस कर रहे हैं। धरना स्थल पर दिन भर छात्रों का तांता लगा रहा। छात्र संघ के पूर्व सचिव नबील उस्मानी ने कहा कि जब तक छात्रों की मांगें पूरी नहीं होतीं, भूख हड़ताल जारी रखेंगे। जिन्ना प्रकरण के दौरान पुलिस द्वारा तीन सौ से अधिक छात्रों पर दर्ज एफआईआर वापस लेने, लाठीचार्ज कराने वाले अधिकारियों के निलंबन, पूरे प्रकरण की न्यायिक जांच एवं एएमयू में आकर हंगामा करने वाले हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी की मांग को लेकर ये छात्र दो सप्ताह से धरना कर रहे हैं।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/63u5dwAA

📲 Get Aligarh News on Whatsapp 💬