[azamgarh] - युवती ने दम तोड़ा, गांव में फोर्स तैनात

  |   Azamgarhnews

फरिहां। छेड़खानी के विरोध पर सात मई की शाम निजामाबाद थाना क्षेत्र के एक गांव में जिस दलित युवती को गांव के दूसरे समुदाय के युवक ने जलाया था। वह युवती सोमवार की रात वाराणसी के बीएचयू में जिंदगी की जंग हार गई। मंगलवार को उसका वाराणसी में ही पोस्टमार्टम होने के बाद घर वालों ने अंतिम संस्कार कर दिया।

घटना के बाद क्षेत्र में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। मौके पर जहां निजामाबाद की फोर्स तैनात की गई है। वहीं अधिकारीगण चक्रमण करते हुए गतिविधियों पर नजर रख रहे हैं। लोगों को परिवारवालों के आने का इंतजार है।

निजामाबाद थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली युवती चार बहनों में छोटी थी। सात मई की शाम को युवती घर में अकेली थी। तभी गांव का मोहम्मद सफीक पुत्र रफी पहुंचा और उसके घर में घुस गया। मोहम्मद सफीक युवती के साथ छेडख़ानी करने लगा। इस दौरान वह उसकी मोबाइल और सिम दोनों तोड़ दिया। विरोध करने पर घर में रखा मिट्टी के तेल का गैलन उठाया और युवती के ऊपर तेल छिड़कर आग लगा दी।

युवती की चीख पुकार सुनकर गांव के लोग पहुंचे और दरवाजा तोड़कर भीतर घुसे। लोगों को आते देख मो. सफीक दीवार कूदकर भागने चाहा तभी लोगों ने उसे पकड़ लिया और धुनाई कर पुलिस के हवाले कर दी। गांव के लोग आग बुझाने के बाद घटना की सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस आरोपी युवक और पीड़िता को जिला अस्पताल में भर्ती कराई। युवती की हालत गंभीर देख डाक्टर ने दूसरे दिन उसे वाराणसी के बीएचयू के लिए रेफर कर दिया।

जहां पुलिस अभिरक्षा में इलाज चल रहा था। सोमवार की रात इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। युवती की मौत के बाद क्षेत्र में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई। हालांकि पुलिस की सक्रियता बढ़ने से मामला शांत हो गया। परिवार के लोग मंगलवार को वाराणसी पहुंचे। वहीं पर युवती का पोस्टमार्टम के बाद अंतिम संस्कार कर दिया।

मंगलवार की रात आठ बजे तक परिवार के लोग घर नहीं पहुंच सके थे। ऐहतियात के तौर पर निजामाबाद थाने की फोर्स तैनात थी। सीओ सदर मो. अकमल खां, एसपीसिटी सुभाष चंद्र गंगवार आदि चक्रमण करते हुए गतिविधियों पर नजर रखे हुए थे।

नंबर न देने पर बिगड़ी बात

आजमगढ़। सीओ सदर मो. अकमल खां ने बताया कि घटना के बाद युवती का मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान हुआ था। इस दौरान युवती ने बताया था कि मो. सफीक से पहले वह फोन पर बातचीत करती थी, लेकिन बाद में नया नंबर ले लिया और बात करना बंद कर दी।

उधर बात न होने पर सफीक सात मई की शाम को युवती का नया वाला नंबर लेने उसके घर पहुंचा था। नंबर न देने पर वह उसके साथ छेड़खानी करते हुए मोबाइल और सिमकार्ड तोड़कर नष्ट कर दिया और मिट्टी का तेल छिड़कर आग लगा दी।

आजमगढ़। निजामाबाद थाना क्षेत्र के एक गांव में सात मई की शाम छेडख़ानी के विरोध करने पर युवती को जलाने के बाद ग्रामीणों ने आरोपी युवक मो. सफीक को पकड़ लिया। लोगों की पिटाई से वह गंभीर रुप से घायल हो गया था। पुलिस उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराकर इलाज करवा रही थी। नौ मई को सफीक की हालत में सुधार होने पर उसका चालान कर दिया गया। जेल के अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/aNwH7AAA

📲 Get Azamgarh News on Whatsapp 💬