[bageshwar] - खतरे की जद में आए प्राथमिक विद्यालय को शिफ्ट करने की मांग

  |   Bageshwarnews

बागेश्वर। भूस्खलन के कारण कर्मी क्षेत्र का राजकीय प्राथमिक स्कूल शरण खतरे में पड़ गया है। लगातार हो रहे भूस्खलन से पैदल मार्ग भी क्षतिग्रस्त हो गया है। बरसात में भूस्खलन का खतरा बढ़ जाएगा। इससे चिंतित क्षेत्र के पंचायत प्रतिनिधियों, अभिभावकों ने प्रशासन से स्कूल को सुरक्षित स्थान पर शिफ्ट करने की मांग की है।

कर्मी ग्राम सभा के तोक शरण में स्थित प्राथमिक पाठशाला में 22 बच्चे पढ़ते हैं। पिछले साल बोल्डर गिरने से नदी में बना पुल ध्वस्त हो गया था। अब शरण, कर्मी के बच्चों के लिए स्कूल जाने के लिए सुरक्षित मार्ग तक नहीं है। ऐसे में बच्चों को चार किमी की अतिरिक्त पैदल दूरी तय कर विद्यालय पहुंचना पड़ रहा है। बरसात शुरू होते ही यह मार्ग भी बंद हो जाता है। इससे बच्चे स्कूल तक नहीं पहुंच पाते हैं। जिला पंचायत सदस्य गोविंद सिंह दानू के नेतृत्व में विद्यालय प्रबंध समिति, अभिभावकों ने जिला प्रशासन, शिक्षा विभाग के अधिकारियों को ज्ञापन भेजा। इसमें बरसात से पहले विद्यालय को अन्यत्र शिफ्ट करने की मांग की गई। अभिभावकों का कहना है कि यदि विद्यालय सुरक्षित स्थान पर शिफ्ट नहीं किया गया कभी भी हादसा हो सकता है।

पांच वर्ष बाद भी नहीं बना झूला पुल

बागेश्वर। खाती की ग्राम प्रधान बसंती देवी ने ट्रैकिंग रूट में वर्ष 2013 में आपदा से ध्वस्त पुल के स्थान पर नया पुल न बनने पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि हैंडओवर होने से पहले ही टूटा 70 मीटर लंबा झूला पुल नहीं बन पाया है। पुल गिरने से घायल हुए घोड़ों के मालिकों को मुआवजा नहीं मिला है। ग्राम प्रधान बसंती देवी सहित चतुर सिंह, मान सिंह, गोकुल दानू, आनंद सिंह, प्रकाश सिंह, सुंदर सिंह आदि का कहना है कि पर्यटक सीजन शुरू हो गया है। पुल न होने से पर्यटन व्यवसाय पर बुरा असर पड़ रहा है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/CfUP7AAA

📲 Get Bageshwar News on Whatsapp 💬