[mainpuri] - आई परेशानी, तालाब सूखे, हैंडपंप छोड़ रहे पानी

  |   Mainpurinews

मैनपुरी। गर्मी बढ़ते ही जिले में पेयजल किल्लत बढ़ने लगी है। शासन के निर्देश के बाद भी तालब नहीं भरवाए गए हैं। देहात में तालाब जहां सूखे पड़े हैं, वहीं हैंडपंप भी पानी छोड़ रहे हैं। इंसान से लेकर पशु-पक्षी तक पानी के लिए परेशान हो रहे हैं। शासन की योजना धरातल पर साकार रूप नहीं ले पा रही है।

गर्मी का मौसम शुरू होते ही शासन से लेकर प्रशासन तक पेयजल समस्या को लेकर कार्य योजना बनाता है। बैठक में दिए गए निर्देशों को कर्मचारी हवा में उड़ा देते हैं। जैसे-जैसे गर्मी बढ़ रही है वैसे-वैसे पेयजल समस्या बढ़ने लगी है। देहात क्षेत्र में अधिकांश तालाब सूखे पड़े हैं। गर्मी के मौसम में तालाबों को भरवाने के लिए जारी किए गए निर्देश हकीकत में मौके पर नजर नहीं आते हैं। वहीं दूसरी ओर हैंडपंप भी पानी छोड़ने लगे हैं। गर्मी बढ़ते ही इंसान से लेकर पशु-पक्षी तक पानी के लिए परेशान हो रहे हैं।

वर्ष 2003 में कराए गए एक सर्वे के बाद जिले में कुल 530 पुराने तालाब होने की बात कहीं गई थी। वर्ष 2018 में जिले में 250 ही पुराने तालाब हैं। दो सौ तालाबों का अस्तित्व नजर नहीं आ रहा है। 15 तालाब अतिक्रमण का शिकार हो चुके हैं। सूत्रों की मानें तो इन तालाबों पर कब्जा करके निर्माण और खेती तक शुरू कर दी गई है।

एक सप्ताह पूर्व डीएम प्रदीप कुमार ने गर्मी के तेवर बढ़ने से पूर्व तालाबों को मनरेगा से भराने के निर्देश दिए थे। डीएम के निर्देशों को अधीनस्थों ने हवा में उड़ा दिया है। देहात में कई तालाब सूख चुके हैं तो कई सूखने के कगार पर हैं। यह हालत तब है जब शासन भी गर्मी के मौसम में तालाब भरवाने के निर्देश दे चुका है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/VVrVeAAA

📲 Get Mainpuri News on Whatsapp 💬