[budaun] - मददगार सिपाही की तलाश में जुटी सिविल लाइंस पुलिस

  |   Budaunnews

मददगार सिपाही की तलाश में जुटी सिविल लाइंस पुलिससिविल लाइंस पुलिस ने मुरादाबाद के कई स्थानों पर दी दबिश अमर उजाला ब्यूरो बदायूं। जिला कारगार से फरार बंदी के मामले में सिविल लाइंस पुलिस मददगार सिपाही की तलाश में जुट गई है। कुख्यात अपराधी ने जिस सिपाही का नाम बताया है, उस नाम का एक सिपाही बदायूं में तैनात है। परंतु उसके स्वभाव और व्यवहार को देखते हुए पुलिस उस पर शक नहीं कर रही है। पुलिस उस नाम के अन्य सिपाहियों का पता लगाने में जुटी है। बुधवार देर शाम तक सिपाही के बारे में पुलिस को कोई जानकारी नहीं मिल सकी। इस मददगार सिपाही का नाम उस वक्त उजागर हुआ था, जब जेल के बड़े अफसर कुख्यात अपराधी देवकी नंदन उर्फ चंदन सिंह से पूछताछ कर रहे थे। उसने सिपाही का नाम बताते हुए इस प्लान के तहत कई राज बताए। साथ ही यह भी बताया कि इस योजना में कितने लोग शामिल हैं। चंदन ने बताया था कि जिला कारागार में रस्सी फेंकने वाले अपाचे बाइक से आए थे। इन लोगों से जिला जेल से फरार हुए सुमित के संबंध है। सुमित ने ही इन लोगों को मुरादाबाद में पेशी पर जाने के दौरान तैयार किया था। उन्हें पूरी योजना बता दी गई थी। उन्हें कब आना है और कहां आना है, फिर उन्हें रस्सी को कहां फेंकना है। यह सारी प्लानिंग सुमित की थी। चंदन ने यह भी बताया था कि अगर सिपाही उनके प्लान में शामिल नहीं होता, तो शायद यह योजना सफल भी नहीं हो पाती। क्योंकि उन्हें पिस्टल उपलब्ध कराने वाला सिपाही ही था। इधर, बंदी फरार के मामले में सिपाही का नाम प्रकाश में आने पर पुलिस विभाग हिल गया है। सिविल लाइंस पुलिस उस सिपाही को खोजने में जुट गई है। पुलिस सूत्रों की माने तो चंदन ने जिस सिपाही का नाम बताया है। उस नाम का एक सिपाही बदायूं में भी तैनात है। बंदी की मदद करने वाला सिपाही वही है या कोई और पुलिस छानबीन कर रही है। सिविल लाइंस थाने से एक टीम बुधवार सुबह मुरादाबाद भी गई थी। पुलिस ने मुरादाबाद के कई ठिकानों पर छापामारी भी की। परंतु कोई कामयाबी नहीं मिल सकी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/cT41AQAA

📲 Get Budaun News on Whatsapp 💬