[lucknow] - उपचुनाव: कैराना में छिपी हैं विपक्षी महागठबंधन की संभावनाएं, पता चलेगी भाजपा विरोधियों की ताकत

  |   Lucknownews

सत्तारूढ़ दल भाजपा से ज्यादा कैराना विपक्षी ताकत की कसौटी बन गया है। भले ही गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव के नतीजे विपक्ष के पक्ष में रहे हों लेकिन बदली परिस्थितियों में कैराना का अलग ही महत्व है। इस सीट के उपचुनाव के जरिये पश्चिमी उत्तर प्रदेश के भावी सियासी समीकरणों की न सिर्फ झलक देखने को मिलेगी बल्कि भाजपा विरोधी संभावित महागठबंधन की ताकत भी पता चलेगी।

दरअसल, कर्नाटक चुनाव के नतीजों ने विपक्ष को यह अहसास करा दिया है कि अलग-अलग रहकर भाजपा का मुकाबला नहीं किया जा सकता। इस लिहाज से कैराना में विपक्षी एकता की पहली परीक्षा होने जा रही है। वजह, कैराना के रूप में उप्र में काफी समय बाद भाजपा विरोधी दल एकजुट होकर उसके मुकाबले मैदान में उतरे हैं।

गोरखपुर और फूलपुर सीटों के उपचुनाव या उससे पहले पिछले वर्ष विधानसभा चुनाव और उससे भी पहले लोकसभा चुनाव में ऐसी परिस्थिति नहीं थी। पर, कैराना तक आते-आते हालात बदल चुके हैं। कर्नाटक में जिस तरह भाजपा विरोधी वोटों के बंटवारे ने संख्या में अधिक होते हुए भी विपक्ष की सत्ता की राह मुश्किल बनाई है, उसे देखते हुए भी प्रदेश में कैराना का चुनाव अधिक प्रासंगिक हो गया है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/qpifMgAA

📲 Get Lucknow News on Whatsapp 💬