[mandi] - अफसर सप्ताह में एक बार ढाबे, होटल और टी-स्टाल का करें निरीक्षण

  |   Mandinews

मंडी। उपायुक्त मंडी ऋग्वेद ठाकुर ने श्रम विभाग, खाद्य, उद्योग तथा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अतिरिक्त उपमंडलाधिकारियों को भी अपने-अपने क्षेत्रों सप्ताह में एक बार हर ढाबे, होटल, टी-स्टाल और वाणिज्यिक क्षेत्रों के निरीक्षण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यदि किसी भी क्षेत्र में बाल श्रम अधिनियम का उल्लंघन पाया जाता है तो नियमानुसार तुरंत कार्रवाई करें। वह जिले में बाल श्रम अधिनियम को कारगर ढंग से लागू करने के लिए बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि बाल श्रम अधिनियम 1986 के संशोधित अधिनियम 2016 के अंतर्गत किसी भी व्यवसाय और प्रक्रिया में 14 साल से 18 साल के बच्चों को काम या रोजगार पर रखना अवैध है। सरकार की ओर से बाल श्रम अधिनियम के तहत ढाबों, दुकानों, होटलों, टी-स्टॉलों, माइनिंग और क्रशर स्थलों सहित कुल 29 व्यवसाय चिन्हित किए गए हैं। जिसमें बच्चों को किसी भी प्रकार के कार्य या रोजगार पर रखने वालों पर संबंधित विभाग की ओर से कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जा सकती है। बाल श्रम अधिनियम को लागू करने के लिए सख्त कदम उठाए गए हैं, जिससे बाल श्रम में काफी कमी आई है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को ठेकेदार के माध्यम से करवाए जा रहे कार्यों तथा क्रशर पर लगे कामगारों पर भी नजर रखने को कहा। बैठक में समस्त उपमंडलाधिकारी, महाप्रबंधक उद्योग विभाग राजेश कुमार, क्षेत्रीय श्रम अधिकारी पीसी ठाकुर, समस्त खंड विकास अधिकारी, श्रम निरीक्षक भावना शर्मा, रामलाल शर्मा और देवचंद मौजूद रहे।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/Hyjw_AAA

📲 Get Mandi News on Whatsapp 💬