[sirsa] - द्वितीय सेमेस्टर की रि अपीयर अंग्रेजी विष्य की परीक्षा देने से वंचित रही छात्रांए

  |   Sirsanews

द्वितीय सेमेस्टर रि-अपीयर अंग्रेजी की परीक्षा देने से वंचित रहीं छात्राएं डबवाली।स्थानीय महाराणा प्रताप महिला महाविद्यालय में बनाए गए परीक्षा केंद्र में बुधवार को द्वितीय सेमेस्टर रि-अपीयर अंग्रेजी विषय की परीक्षा देने पहुंची छात्राओं को निराश लौटना पड़ा। ये परीक्षा 13 मई को आयोजित हो चुकी है। जानकारी के अनुसार सीडीएलयू की ओर से विभिन्न कक्षाओं की परीक्षाओं के लिए जारी डेटशीट को लेकर छात्र-छात्राओं में असमंझस की स्थिति रही। जिसके चलते बुधवार को द्वितीय सेमेस्टर में रि-अपीयर अंग्रेजी विषय की परीक्षा देने से करीब दो दर्जन छात्राएं वंचित रह गई। महाराणा प्रताप महिला महाविद्यालय के परीक्षा केंद्र में मौजूद छात्राओं मुस्कान, ओंकार, काजल, मानसी, निशु में सीडीएलयू व स्थानीय कॉलेज प्रशासन के खिलाफ असंतोष पाया जा रहा है। परीक्षार्थियों ने बताया कि उनकी द्वितीय सेमेस्टर में अंग्रेजी विषय की रि-अपीयर आई थी। वह डेटशीट के अनुसार आज अपनी परीक्षा देने पहुंचे थे। परंतु आज केेंद्र में परीक्षा तो अंग्रेजी विषय की ही थी। लेकिन वह प्रथम सेमेस्टर की थी। छात्राओं ने बताया कि यदि उन्हें डेटशीट में कंफ्यूजन नहीं होता तो वह परीक्षा से वंचित नहीं रह पाते और उनका भविष्य भी धूमिल नहीं होता। अभिभावकों ने जब कॉलेज प्रशासन से पूछा कि जब बच्चे कंफ्यूजन के कारण परीक्षा में नहीं पहुंच पाए तो उनका फर्ज नहीं था कि वह छात्राओं को एक बार फोन पर सूचित करें। जिसके बाद कॉलेज प्रशासन अपना पल्ला झाड़ता दिखाई दिया। छात्राओं व उनके अभिभावकों ने मांग की है कि सीडीएलयू वंचित रहे विद्यार्थियों की परीक्षा दोबारा आयोजित कर उन्हें राहत प्रदान करे। ताकि उनकी आगे की पढ़ाई निर्बाध रूप से सुचारु चल सके। उधर, उपमंडल के गांव डबवाली में स्थित डॉ. बीआर अंबेडकर राजकीय महाविद्यालय के परीक्षा केंद्र के इंचार्ज सतविंदर सिंह व डिप्टी सुपरिटेडेंट राकेश भट्टी ने बताया कि 13 मई को आयोजित द्वितीय सेमेस्टर री-अपीयर अंग्रेजी विषय की परीक्षा में करीब 21 छात्र-छात्राएं अनुपस्थित थे। लेकिन उनकी अनुपस्थिति को लेकर कोई स्पष्ट कारण या जानकारी नहीं है। इस संबंध में सीडीएलयू के परीक्षा नियंत्रक डॉ. प्रवीण अगरकर ने बताया कि यूनीवर्सिटी द्वारा जारी की गई डेटशीट में किसी प्रकार का कोई कंफ्यूजन नहीं थी। विद्यार्थियों को इसे समझने में चूक हो गई होगी। जिसके चलते यह स्थिति बनी। उन्होंने बताया कि बच्चों को घबराने की जरूरत नहीं। उनके पास परीक्षा देने के अभी चांस हैं और वह सुचारु पढ़ाई कर अपनी रि-अपीयर-अपीयर को क्लीयर कर सकते हैं।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/25_yTwAA

📲 Get Sirsa News on Whatsapp 💬