[sonebhadra] - अनिल मौर्य के पट्टे के नवीनीकरण की नहीं मिली अनुमति

  |   Sonebhadranews

सोनभद्र। जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह ने बताया कि बिल्ली मारकुंडी स्थिति आराजी संख्या 4471 में पूर्व में अनिल कुमार मौर्य को दिए गए डेढ़ एकड़ जमीन के पत्थर खनन के पट्टे का नवीनीकरण नहीं किया जाएगा। जांच में यह जमीन वन भूमि से सौ मीटर की परिधि के भीतर पाई गई है। इसमें खनन पूरी तरह विधि-विरुद्ध है। अगर खनन की शिकायत मिली तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। बताते चलें कि कुछ लोगों ने शिकायत की थी कि वन भूमि के दायरे के अंदर आने वाले पट्टे के नवीनीकरण का प्रयास किया जा रहा है। डीएम ने इस प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए प्रकरण की जॉच के लिए नायब तहसीलदार पवन कुमार सिंह, सर्वेयर योगेश शुक्ल सर्वेयर, वन क्षेत्राधिकारी डाला महेंद्र कुमार यादव, लेखपाल राजेश कुमार मिश्र के मौजूदगी वाली टीम गठित की। जॉच टीम ने पाया कि उक्त आराजी वन्य क्षेत्र के 100 मीटर के परिधि के अंतर्गत है और इस आशय की संस्तुति की है कि यह जमीन खनन पट्टा दिये जाने के योग्य नहीं है। डीएम का कहना था कि किसी भी दशा में जिले में अवैध खनन नहीं होने दिया जाएगा, ना ही इस प्रकार की किसी जमीन में खनन होने दिया जाएगा। अवैध खनन के मामले में नहीं हो सकी कोई गिरफ्तारी ओबरा। बिल्ली मारकुंडी खनन क्षेत्र के आराजी संख्या 4949 में अवैध खनन किए जाने के मामले में वांछित चारों अभियुक्तों की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। वहीं अज्ञात अवैध विस्फोटक सप्लायर की भी शिनाख्त नहीं की जा सकी है। बताते चलें कि मंगलवार को आराजी संख्या 4949 में अवैध खनन की शिकायत पर हुई छापेमारी के दौरान खननकर्ता विस्फोटक भरे हुए होल छोड़कर फरार हो गए थे। प्रशासन की मौजूदगी में शाम को उक्त स्थान पर सुरक्षा की दृष्टि से विस्फोट कराया गया था। खनन सर्वेक्षक योगेश शुक्ला की तहरीर पर अज्ञात अवैध विस्फोटक सप्लायर, अवैध खदान संचालक दलबीर सिंह, पेटीदार अजय राय एवं विनोद सिंह के खिलाफ खनिज अधिनियम आदि में मामला दर्ज किया गया था।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ETb6TgAA

📲 Get Sonebhadra News on Whatsapp 💬