[balaghat] - शाकाहारी के शिकार का खतरा, मांसाहारी कर रहे शिकार

  |   Balaghatnews

कटंगी। वन परिक्षेत्र कटंगी के अंतर्गत आने वाले लगभग सभी वनाचंलों के नजदीक इनदिनों वन्यप्राणियों का देखा जाना आम होते जा रहा है। जिनमें शाकाहारी तथा मांसाहारी दोनों ही प्रकार के वन्यप्राणी शामिल है। दरअसल, वनप्राणियों के गांव के नजदीक तक आने से शाकाहारी वन्यप्राणियों पर शिकार का खतरा मंडरा रहा है, वहीं मांसाहारी वन्यप्राणियों की गश्त मनुष्य के लिए खतरे का संकेत है। जंगल से निकलकर गांव के नजदीक वन्यप्राणियों की आवाजाही से वन विभाग पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। लेकिन वन विभाग जंगल से सटे गांव होने का हवाला देते हुए अपनी जिम्मेदारियों से बचने की कोशिश कर रहा है। जबकि जानकारों का कहना है कि जंगलों की अंधाधुंध कटाई एवं मिश्रित वनों को समाप्त कर सागौन को बढ़ावा देने के कारण शाकाहारी वन्याप्राणियों का आहार समाप्त हो रहा है और वह भोजन की तलाश में गांव की तरफ आ रहे हैं। वहीं इन वन्यप्राणियों पर आश्रित मांसाशाही वन्यप्राणी भी इनके पीछे-पीछे बसाहट तक पहुंच रहे हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/pFZ95AAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/NI6AkgAA

📲 Get Balaghat News on Whatsapp 💬