[ballia] - यूरिया के लिए मारे-मारे फिर रहा किसान ककक

  |   Ballianews

सुखपुरा। समितियों और संघों पर समय से खाद का नहीं पहुंच रहा है, जिसकी वजह से किसान यूरिया खाद खरीदने के लिए परेशान हैं। उन्हें बाजार से यूरिया अधिक दाम पर खरीदना पड़ रहा है। कस्बे में समिति एवं संघ के अलावा एक एग्रो की भी दुकान है, जिसमें समिति पर पिछले पखवाड़े 500 बोरी यूरिया आई थी जो समिति से जुड़े किसानों के लिए ही नाकाफी थी।

इस वर्ष अब तक संघ पर ढाई सौ बोरी यूरिया की खेप पहुंची है, जो संघ से जुड़े किसानों के लिए काफी कम है। एग्रो पर भी यूरिया पिछले महीने आई थी। किसानों के लिए मौसम की प्रतिकूलता चिंता की सबब बनी हुई है तो दूसरी तरफ यूरिया की कालाबाजारी अत्यंत बेचैन कर रही है। क्षेत्र के किसान बसंत सिंह का कहना है कि यदि समय रहते यूरिया की आपूर्ति सुनिश्चित नहीं की जाएगी तो गेहूं के उत्पादन पर प्रतिकूल असर पड़ने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता। किसान अशोक मिश्र का कहना है कि आज भी किसान यूरिया के लिए परेशान हैं। सहकारी संघ के जिलाध्यक्ष राजनाथ पांडेय का कहना है कि सचिव द्वारा जो डिमांड दी गई है, उसी के आधार पर संघ को खाद दिया जा रहा है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/Z77rxwAA

📲 Get Ballia News on Whatsapp 💬