[bulandshahr] - गोशाला से भागा गोवंश, मिला मृत

  |   Bulandshahrnews

गोशाला से भागा गोवंश, मृत मिला

नरसैना। जिले में निराश्रित गोवंश के लिए बनाए जा रहे अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल पर जिला प्रशासन की ओर से किए जा रहे प्रबंधों की पोल खुलने लगी है। क्षेत्र की अस्थायी गोशाला से एक गोवंश भाग निकला, जो मंगलवार की सुबह मृत मिला। इससे गुस्साएं ग्रामीणों ने आश्रय स्थल से मवेशियों को भगा दिया। मौके पर पहुंचे तहसीलदार के साथ ग्रामीणों की जमकर नोंकझोंक हुई। पुलिस ने मृत गोवंश को जमीन में दबवा दिया। गोवंश की मौत का कारण चारा व छाया की व्यवस्था न होना माना जा रहा है।

नरसैना में 12 जनवरी को तहसीलदार ने पहुंचकर अस्थायी निराश्रित गोवंश आश्रय स्थल बना कर वहां गोवंशों को पहुंचा दिया था। लेकिन वहां चारा और छाया की व्यवस्था नहीं की गई। ग्रामीणों का कहना है भूख से बेहाल एक गोवंश (सांड) गोशाला से भाग निकला। जो मंगलवार की सुबह देवी मंदिर के पास मृत मिला। वहीं, दूसरी ओर बारिश और ठंड के बीच गोवंश सिकुड़ते रहे। गोवंश की मौत का समाचार मिलते ही ग्रामीण गुस्से में आ गए और उन्होंने गोशाला से मवेशियों को भगा दिया। इसकी सूचना पाकर तहसीलदार राजकुमार मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों की तहसीलदार के साथ जमकर नोंकझोंक हुई। करीब दस दिन से मवेशी बीमार भी हो रहे हैं। इनका उपचार डॉ. सुशील कुमार, कुलदीप कुमार और डॉ. भोपाल कर रहे हैं। ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि अब गोशाला में कोई गोवंश नहीं है और वह फिर खेतों में पहुंचकर नुकसान कर रहे हैं। गोवंश आश्रय स्थल के नोडल अधिकारी एवं जिला पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. लक्ष्मी नारायण का कहना है कि जिस गोवंश की मौत हुई है। वह करीब पांच माह का था और काफी कमजोर भी था। इसके साथ दूसरे बीमार गोवंश का उपचार करवा दिया है, जिससे वह स्वस्थ हैं। ग्रामीणों द्वारा लगाए जा रहे आरोपों की जांच करवाई जा रही है। साथ ही प्रशासनिक अफसरों से ग्राम प्रधान और सचिव को गोवंश के लिए चारा आदि का प्रबंध करने के निर्देश दिए गए हैं। अभी तक शासन से राशि न मिलने के कारण व्यवस्थाएं पूरी नहीं हो पा रही हैं।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/44z3FwAA

📲 Get Bulandshahr News on Whatsapp 💬