[jabalpur] - सेना के लिए तीन दिन तक नहीं बन सकेंगे गोला-बारूद

  |   Jabalpurnews

जबलपुर। सरकार की न्यू पेंशन स्कीम, आयुध निर्माणियों के उत्पादों को कोर और नॉन कोर में विभाजित करना तथा वर्कशॉप, आर्मी डेयरी फॉर्म सहित डिपो को बंद करने की नीति के खिलाफ देशभर के सुरक्षा संस्थानों में 23 से 25 जनवरी तक कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे।

शहर के सुरक्षा संस्थानों के करीब 15 हजार कर्मचारी इसमें शामिल रहेंगे। इस दौरान सेना के लिए गोला, तोप, वाहन और दूसरे उत्पादों का उत्पादन बंद रहेगा। हड़ताल में किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पुलिस और प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम किए हैं।

हड़ताल में एआईडीइएफ, बीपीएमएस और आइएनडीडब्ल्यूएफ से सम्बद्ध यूनियनों के पदाधिकारी एवं कर्मचारी शामिल हो रहे हैं। हड़ताल का व्यापक असर होगा। ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया, गन कैरिज फैक्ट्री, ग्रे आयरन फाउंड्री और वीकल फैक्ट्री के अलावा अन्य सुरक्षा संस्थानों की यूनियनों ने भी हड़ताल को सफल करने के लिए व्यापक इंतजाम किए हैं। सभी जगहों पर पिकेट बनाए गए हैं। इनमें प्रमुख पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं की नियुक्ति की गई है। खास है कि आवश्यक सेवाएं देेने वाले विभागों के कर्मचारी भी शामिल रहेंगे।...

फोटो - http://v.duta.us/cY7psAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/4USqdwAA

📲 Get Jabalpur News on Whatsapp 💬