[jhansi] - कोर्ट - सास, ससुर व पति को दस-दस साल की सजा-Dehat

  |   Jhansinews

सास, ससुर व पति को दस-दस साल की सजा

झांसी। दहेज के लिए हत्या किए जाने का आरोप सिद्ध होने पर अपर सत्र न्यायाधीश व फास्ट ट्रैक कोर्ट संजय कुमार सिंह की अदालत ने सास, ससुर व पति को दस-दस साल की सजा सुनाई है।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता संजय कुमार पांडेय के अनुसार ग्राम सैतौल थाना भांडेर जिला दतिया निवासी धर्मेंद्र ने थाना बबीना में तहरीर देते हुये बताया था कि उसकी बहन श्रद्धा उर्फ लाली का विवाह छह जून 2014 को थाना बबीना क्षेत्र स्थित मथुरापुरा निवासी प्रवेंद्र कांकर पुत्र राधा चरन कांकर के साथ हुआ था। शादी में उसने अपनी हैसियत से अधिक दान-दहेज दिया था। जब वह पहली बार बहन को विदा कराने पहुंचा तो ससुराली जनों ने कम दहेज का उलाहना देते हुये श्रद्धा का उत्पीड़न किया। इसके बाद ससुरालीजन खेती की जमीन में से आधी तीन बीघा जमीन की रजिस्ट्री कराने या फिर छह लाख रुपये मांग करने लगे। हैसियत का हवाला देते हुए जब धर्मेंद्र ने मांग पूरी करने में असमर्थता जाहिर की तो सभी ससुरालीजन नाराज हो गए। काफी मिन्नतों के बाद विदाई की गई। श्रद्धा पुन: विदा होकर ससुराल गई तो 20 दिसंबर 2014 को ससुराली जनों ने मारपीट कर जान से मारने का प्रयास किया। इसके उपरांत 14 अप्रैल 2016 को सभी ससुराली जनों ने एक राय होकर मारपीट कर श्रद्धा के सारे जेवरात उतरवा लिये और मिट्टी का तेल डालकर आग के हवाले कर दिया, जिसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने विवेचना के बाद आरोप पत्र न्यायालय में पेश किया। जहां पति प्रवेन्द्र कांकर, ससुर राधा चरन व सास सुमन को धारा 304बी के तहत दस-दस साल की सजा, धारा 498ए आईपीसी के अपराध में दो-दो साल की सजा, पांच-पांच हजार रुपये अर्थदंड, अदा न करने पर तीन-तीन माह के कारावास एवं धारा 4 दहेज प्रतिषेध अधिनियम के अपराध में एक-एक वर्ष के सश्रम कारावास, दो-दो हजार रुपये अर्थदण्ड, अदा न करने पर दो-दो माह के कारावास की सजा सुनाई।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/bXpLhgAA

📲 Get Jhansi News on Whatsapp 💬