[khargone] - 50 हजार किसानों ने बेची उपज, भुगतान के लिए चाहिए 63 करोड़

  |   Khargonenews

खरगोन. राज्य सरकार एक तरफ किसानों का कर्ज माफ कर खुश करने में लगी हैं, तो दूसरी ओर कृषि मंत्री सचिन यादव के बयान ने सरकार को मुश्किल में डाल दिया हैं। जिसके चलते प्रदेश सरकार बैकफुट पर आ गई हैं। सोमवार को कृषि मंत्री सचिन यादव ने भावांतर भुगतान योजना को बंद करने की बात कही थी। उनके इस बयान को लेकर दिनभर राजनीतिक हलके में चर्चा रही।

उल्लेखनीय है कि दो साल पहले किसानों को उनकी उपज के सही दाम देने के उद्देश्य से शिवराज सरकार ने भावांतर भुगतान योजना शुरु की थी। प्रथम वर्ष में जिले में गत वर्ष 23999 किसानों ने अपनी उपज भावांतर योजना में बेची थी। जिन्हें 19 करोड़ 69 लख 25 हजार 669 रुपए का भुगतान किया गया था।वहीं चालू वर्ष में 20 अक्टूबर 2018 से 19 जनवरी 2019 के बीच 50 हजार 370 पंजीकृत किसानों ने 1272969 क्विंटल उपज बेची हैं। जिन्हें भुगतान के लिए 63 करोड़ रुपए की देने की जरुरत होगी। योजना के बंद होने से किसानों को इस राशि से हाथ धोना पड़ सकता है।इससे किसान नाराज हो सकते हैं और कांग्रेस को लोकसभा चुनाव में उसकी कीमत चुकाना पड़ सकती है। चर्चा यह भी है कि मामले में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कृषि मंत्री को फोन कर पूछा है कि उन्होंने ऐसा बयान क्यों दिया हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/2CPZ_gAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/G8diDAAA

📲 Get Khargone News on Whatsapp 💬