[nagaur] - वीडियो में देखिए, कलक्टर यादव ने बेटियों के बारे में क्या कहा?

  |   Nagaurnews

नागौर. ‘बेटी हमारे का समाज का अभिशाप नहीं बल्कि वरदान है। बेटी एक घर का नहीं, बल्कि दो घरों का मान होती है, इनका संरक्षण और प्रोत्साहन हर हाल में जरूरी है, तभी हमारा समाज व देश आगे बढ़ेगा।’ यह बात जिला कलक्टर दिनेश यादव ने मंगलवार को सेठ किशनलाल कांकरिया राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय परिसर में राष्ट्रीय बालिका दिवस पर चल रहे कार्यक्रमों की शृंखला में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही।

कलक्टर यादव ने कहा कि देश में घटता लिंगानुपात चिंता का विषय है और इससे भी बड़ी चिंता की बात यह है कि शिक्षित और विकसित भारत की ओर अग्रसर हो रहे हमारे देश में कन्या भ्रूण हत्या जैसा अभिशाप समाज में व्याप्त है। उन्होंने कहा कि कन्या भू्रण हत्या पर रोक लगाने के लिए लागू किए गए पीसीपीएनडीटी अधिनियम में दिए गए कानूनी प्रावधानों को और अधिक सख्ती से लागू करना होगा। गांव-गांव जगाई जा रही बेटी बचाने की अलख को और तेज करना होगा। कलक्टर ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि हमें धार्मिक, ऐतिहासिक पुस्तकें जैसे महाभारत, रामायण, कुरान आदि पढऩी चाहिए। उन्होंने रामायण के अश्वमेघ यज्ञ का जिक्र करते हुए कहा कि यज्ञ में स्त्री को पुरुष के साथ बैठना आवश्यक था, इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि हमारी प्राचीन संस्कृति में नारी को कितना महत्व दिया जाता था।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/V9SHsQAA

📲 Get Nagaur News on Whatsapp 💬