[satna] - संसद में अपने ही पार्टी के सांसद से घिरे रेल मंत्री, नहीं दे पाए सटीक जवाब

  |   Satnanews

सीधी. विंध्य की लाइफलाइन मानी जाने वाली ललितपुर-सिंगरौली रेल परियोजना को लेकर शासन व प्रशासन का रवैया ठीक नहीं है। तीन दशक से लंबित इस परियोजना का दोबारा शिलान्यास कराकर सरकार ने श्रेय लेेने की कोशिश जरूर की, लेकिन निर्माण कार्य में तेजी नहीं आई। स्थिति यह है दो वर्ष बाद भी विभागीय मंत्री यह बता पाने में असमर्थ हैं कि इसका निर्माण कब तक पूरा होगा। जबकि, शिलान्यास के दौरान तत्कालीन रेलमंत्री ने २०१९ में सीधी तक टे्रन संचालन की डेडलाइन तय की थी।

क्या कहा रेल मंत्री ने

दरअसल, राज्यसभा सांसद व भाजपा नेता अजय प्रताप सिंह हाल ही में हुए संसद सत्र में प्रश्न लगाकार रेल परियोजना में अब तर्क खर्च हुई राशि, कार्य की प्रगति व इसे पूरा करने की समय सीमा पूछी थी। इस पर रेल राज्य मंत्री राजेन गोहांई ने उनके सवालों का जवाब देते हुए बताया कि ललितपुर से खजुराहो १६७ किलोमीटर व महोबा से खजुराहो ६२.५० किलो पर ट्रेन का संचालन शुरू कर दिया गया है। शेष खंडों में भू-अर्जन प्रक्रिया व निर्माण कार्य प्रगति पर है। सन में (२०१५ से २०१८ तक) बीते तीन सालों में 1072 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। वहीं वर्ष २०१८-१९ के लिए भी ३१५ करोड़ परिव्यय की व्यवस्था की गई है। लेकिन निर्माण कब तक पूरा हो पाएगा यह बता पाना संभव नहीं है।...

फोटो - http://v.duta.us/UNAO2AAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ghBlxgAA

📲 Get Satna News on Whatsapp 💬