असहनीय दर्द से मिली निजात, वीर बहादुर 'आयुष्मान' हुआ

  |   Gorakhpurnews

आयुष्मान भारत योजना: असहनीय दर्द से मिली निजात, वीर बहादुर 'आयुष्मान' हुआ

गोरखपुर। गरीबी के कारण दो वर्ष तक गुर्दों में पथरी का ऑपरेशन कराने में असमर्थ दस वर्षीय वीर बहादुर के माता-पिता के लिए आयुष्मान भारत योजना वरदान साबित हुई। निजी अस्पताल में जांच कराने के दौरान परिवार वालों को जानकारी हुई कि वे आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थी हैं। गोल्डन कार्ड बनवाने के बाद वीर बहादुर की दो बार सर्जरी कर दोनों गुर्दों से पथरी निकाली गई। मां दुर्गाती देवी कहती हैं कि योजना की वजह से बेटे को असहनीय पीड़ा से निजात मिली।

रियाय गांव गगहा निवासी त्रिलोकी प्रसाद के बेटा वीर बहादुर दो साल से दर्द से जूझ रहा था। चिकित्सकों ने गुर्दों में पथरी बताते हुए ऑपरेशन की सलाह दी थी। करीब डेढ़ लाख रुपये का खर्च गरीबी में मुमकिन नहीं था। पिता त्रिलोकी प्रसाद और मां दुर्गाती बेटे को दर्द में तड़पते हुए देखने को मजबूर थे। सितंबर 2018 में आयुष्मान भारत योजना लागू हुई और उनका परिवार इसमें आच्छादित हो गया। बावजूद इसके उन्हें इसकी जानकारी नहीं हुई। जुलाई 2019 में वीर बहादुर की तकलीफ हद से ज्यादा बढ़ी तो परिवार वाले उसे लेकर बड़हलगंज स्थित दुर्गावती हॉस्पिटल पहुंचे। यहां मौजूद आरोग्य मित्र स्नेहिल शर्मा ने परिवार वालों को योजना की जानकारी दी और गोल्डन कार्ड बनाकर दिया। डॉ. मनोज यादव ने ऑपरेशन कर एक गुर्दे की पथरी निकाल दी।...

फोटो - http://v.duta.us/van-KwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/3Ld2tgAA

📲 Get Gorakhpur News on Whatsapp 💬