करवाचौथ पर रोहिणी नक्षत्र और मंगल का होगा शुभ संयोग

  |   Fatehabadnews

फतेहाबाद। करवा चौथ कार्तिक मास की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। इस बार करवा चौथ का का व्रत 17 अक्टूबर दिन गुरुवार को रखा जाएगा। इस व्रत में महिलाएं बिना जल ग्रहण किए व्रत रखतीं हैं और रात के वक्त चांद निकलने के बाद व्रत का पारण करती हैं। करवा चौथ पर इस बार रोहिणी नक्षत्र और मंगल का विशेष शुभ संयोग बन रहा है। करवा चौथ पर बनने वाला यह संयोग 70 साल बाद बन रहा है।

श्याम मंदिर के पुजारी पंडित राजेश शर्मा के मुताबिक करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र और मंगल का योग अत्यधिक मंगलकारी है। इसके अलावा इस करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र के साथ सत्यभामा और मार्कण्डेय योग भी बन रहा है जो अन्य योगों की तुलना में शुभकारी है। यह शुभ संयोग भगवान श्रीकृष्ण और सत्यभामा के मिलन के समय बना था। सामाजिक मान्यता है कि सुहागिन महिलाएं यदि करवा चौथ व्रत का विधिवत पालन करें तो उनके पति की आयु लंबी होती है। साथ ही वैवाहिक जीवन खुशहाल रहता है। यह व्रत सूर्योदय होने से पहले आरंभ किया जाता है और सूर्यास्त के बाद चांद निकलने तक रखा जाता है। इस व्रत को लेकर एक मान्यता यह भी है कि इसमें सास अपनी बहू को सरगी देती है जिसे लेकर व्रती महिला व्रत की शुरूआत करती है।...

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/aln58QAA

📲 Get Fatehabad News on Whatsapp 💬