किसी भी दल को मेयर बनाने के लिए चाहिए होंगे 33 'पार्षदó

  |   Bharatpurnews

भरतपुर. नगर निगम में मेयर पद पर अप्रत्यक्ष चुनाव कराने की घोषणा होते ही शहर के हर वार्ड में दावेदार सक्रिय हो गए। हालांकि पार्षदी के दावेदार सोमवार को घोषणा के बाद और अधिक सक्रिय नजर आए। क्योंकि अब उनकी पूछ जो बढ़ गई है। नगर निगम में मेयर पद के दावेदार को चुनाव जीतने के लिए 65 में से 33, रूपवास नगरपालिका में चेयरमैन के दावेदार को जीत के लिए 25 में से 13 पार्षदों के मत चाहिए होंगे। अब स्थानीय निकाय चुनाव का बिगुल बज चुका है। कांग्रेस और भाजपा अपनी-अपनी तैयारियों में जुटी है। कांग्रेस ने पार्टी की सरकार आते ही महापौर का चुनाव सीधे कराने का निर्णय किया था, अब राज्य सरकार ने दोबारा इस निर्णय की समीक्षा कर अप्रत्यक्ष चुनाव कराने का निर्णय लिया है। इस सियासी हलचल के बाद दोनों दलों से महापौर और नगरपालिकाध्यक्ष का ख्वाब देखने वालों के सामने यह स्थिति स्पष्ट है कि उन्हें निकाय प्रमुख के पद के लिए पहले पार्षद चुने जाने के लिए समर में उतरना होगा। स्थिति स्पष्ट होने के बाद दावेदारों के साथ चुनाव की रणनीति बनाने वाले नेता भी तैयारी की स्थिति में आ चुके हैं। हालांकि अभी मेयर पद की लॉटरी को लेकर भी ऊंहापोह की स्थिति बनी हुई है। उधर, कई नेता अब अपने लिए सुरक्षित वार्ड की तलाश में भी जुट गए हैं। उन्हें लग रहा है कि सरकार का निर्णय लॉटरी का परिणाम भले ही कुछ भी रहे, वे अपनी व्यवस्था बनाकर रखें। दूसरी समस्या यह भी है कि लॉटरी नहीं निकाले जाने से अभी तक मेयर पद के दावेदारों के सामने भी संकट है कि जितनी देरी निर्णय में हो रही है वह उनके चुनाव प्रचार में बाधा उत्पन्न करेगी। इसलिए वह सुरक्षित वार्ड की तलाश करने में भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/u2w9HAAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/uJ61lwAA

📲 Get Bharatpur News on Whatsapp 💬