अंतरराष्ट्रीय नृत्याँगना तान्या ने छात्राओं को बताई भरतनाट्यम की बारीकियां

  |   Satnanews

सतना. शास्त्रीय संगीत की मधुर धुन और विभिन्न मुद्राओं और भंग-भंगिमाओं का एेसा समावेश देखने को मिला कि छात्राएं एक टक निहारती रह गईं। अंतरराष्ट्रीय नृत्यांगना तान्या सक्सेना का भरतनाट्यम नृत्य देख सभी मंत्र मुग्ध हो गई। उनके एक एक परफॉर्मेंस में वे सभी जारेदार तालिया बजा रही थी। गवर्नमेंट गल्र्स कॉलेज में स्पिक मैके संस्था के माध्यम से भरतनाट्यम शास्त्रीय नृत्य वर्कशॉप आयोजित की गई। जिसमें नृत्यांगना ने अर्धनारीश्वर और कृष्ण लीला का वर्णन किया। इस नृत्य के माध्यम से उन्होंने ब्रज के वैभव और श्रीकृष्ण के प्रेमरस का पदर्शन किया। नृत्य प्रस्तुति के बाद उन्होंने छात्राओं को भरतनाट्यम नृत्य कला की उत्पत्ति के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि भरतनाट्यम नृत्य द्वारा नृत्यकर्ता अपनी भावनाओं को विभिन्न मुद्राओं से व्यक्त करता है । इस नृत्य में भावना, संगी, लय और अभिव्यक्ति का अद्भुत सामंजस्य होना चाहिए। इसकी मुद्रा हाथ की स्थिति, चेहरा भाव की स्थिति और पद्म पैरों की स्थिति को व्यक्त करती हैं। मौके पर अध्यक्ष डॉ. हेमंत कुमार डेनियल, प्राचार्या डॉ. नीलम रिछारिया, प्रशान्त श्रीवास्तव, डॉ. एके पांडेय, डॉ. सुधा पांडेय, डॉ. अनुराधा जैन, वीरेन्द्र सहाय सक्सेना, डॉ. सुचिता तिवारी, रंजना सोनी, उमेश साहनी, डॉ. राजनिधि सिंह, डॉ. किरण सिंह, रामकरण पांडेय, राहुल जैन, राज गुप्ता, प्रतीक अग्रवाल मौजूद रहे।

फोटो - http://v.duta.us/dBQstQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/LzUVKwEA

📲 Get Satna News on Whatsapp 💬