आफिस मेें सो रहे थे ये बड़े अफसर, भड़क उठे लोग

  |   Khandwanews

बड़वानी. अपनी समस्याओं को लेकर मंगलवार को डूब प्रभावित गांवों में 100 से ज्यादा किसान विद्युत वितरण कंपनी के ग्रामीण वृत कार्यालय पहुंचे। यहां उनकी समस्याएं सुनने के बजाए एग्जीक्यूटिव इंजीनियर गौरव सोनी कुर्सी पर सोते नजर आए। उन्हें देखकर किसानों को गुस्सा और भड़क गया। उन्होंने यहां नारेबाजी शुरू कर दी। उनके जागने पर किसानों ने उन्हें अपनी समस्या बताई तो उन्होंने दो टूक जवाब दिया कि यह मेरा काम नहीं है। इसके बाद किसान यहां से लौट गए और कलेक्टोरेट जाकर कलेक्टर अमित तोमर को अपनी समस्याएं बताई।

कृषक रमेश जाट, शिवशंकर, करण दरबार आदि ने बताया कि नर्मदा पट्टी बोरखेड़ी, भवती, बिजासन से लेकर दतवाड़ा, बड़दा, गोलाटा, मोहीपुरा सहित कई तटीय गांवों में सरदार सरोवर बांध के बैकवाटर के चलते प्रशासन द्वारा विद्युत पोल व ट्रांसफार्मर निकाल लिए गए हैं। जबकि किसानों ने हजारों-लाखों रुपए खर्च कर फसलें बोई थी। इस वर्ष अतिवृष्टि ने ख्ेाती-किसानी की कमर तोड़ दी है। वर्तमान में उत्पादन आधे से भी कम निकलेगा। शेष बची फसलों को अब सतत धूप निकलने से सिंचाई की आवश्यकता पडऩे लगी है। पानी नहीं मिला तो बची हुई फसलें भी खाक हो जाएगी। ऐसे में डूब क्षेत्र से बाहर या टापू वाले क्षेत्रों में प्रशासन द्वारा ट्रांसफार्मर सप्ताहभर में लगाना चाहिए। इसी मांग को लेकर डूब प्रभावित किसान विद्युत कंपनी कार्यालय पहुंचे थे। यहां वह अपनी समस्याओं को लेकर चर्चा करना चाहते थे। लेकिन एग्जीक्यूटिव इंजीनियर गौरव सोनी को कार्यालय में सोता हुआ देखकर किसान भड़क उठे।...

फोटो - http://v.duta.us/qSLqTQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/JWwjUgAA

📲 Get Khandwa News on Whatsapp 💬