क्या जमाना आ गया है, अब असली-नकली किन्नर के लिए भी होने लगी खूनी जंग

  |   Jabalpurnews

जबलपुर। कहने को तो किन्नर होना या कहलाना, दुनिया में कोई नहीं चाहता। भारतीय समाज में तो इसे अभिशाप माना जाता है। लेकिन, जबलपुर शहर की हालत सुनकर चौंक सकते हैं। यहां आए दिन असली और नकली किन्नर के विवाद में खूनी जंग हो जाती है। यहां तक कि जानलेवा हमले हो रहे हैं। थानों में किन्नरों का समूह आए दिन धरने पर बैठ जाता है। पुलिस को इस कदर माथा-पच्ची करनी पड़ती है कि उसे माथा पीटने के अलावा कोई रास्ता नहीं दिखता। हाल ही में इस विवाद का एक और एंगल निकल आया है। किन्नरों का एक गुट यह आरोप लगा बैठा कि पुलिस भी नकली किन्नरों को शहर दे रही है। उनसे कमाई करा रही है। इस आरोप के बाद मामला तूल पकड़ गया है। कुछ सामाजिक संगठन भी इस मामले में दबी जुबान में बोल रहे हैं। उनका कहना है कि किन्नर होना किसी के हाथ में नहीं है। लेकिन, इस दैवीय रचना के नाम पर यदि कोई कमाई कर रहा है, तो यह बहुत बड़ी सामाजिक बुराई को जन्म देगी। सामाजिक संगठनों का कहना है कि किन्नरों के बारे में इस समय बहुत सारी बातें कही जा रही हैं। ट्रेनों में उन पर जबरन वसूली के आरोप लग रहे हैं। जबलपुर से लेकर मानिकपुर के बीच में तो किन्नरों को यात्रियों के बीच आतंक जैसा है। यहां समूहों में किन्ना बोगियों में घुुस जाते हैं और बिना पैसे किसी भी यात्री को नहीं छोड़ते। पैसे नहीं देने पर ये मारपीट पर उतारू हो जाते हैं। पुलिस भी इस मामले में फिलहाल कोई कार्रवाई नहीं करती।...

फोटो - http://v.duta.us/lKcCVAAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/8rZRvwAA

📲 Get Jabalpur News on Whatsapp 💬