करोड़ों के नरेगा काम, नहीं मिला हर हाथ को काम

  |   Damohnews

दमोह. राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत जिले में बीत रहे पंचायती कार्यकाल में पानी की तरह रुपए बहाए गए, लेकिन न तो गांवों में हर हाथ को काम मिला और न ही अन्य कार्य हुए। कूपधारा के निर्माण के मामले में कागजी वर्क हुआ, मौके पर कुआं धंसके मिले। क्रीड़ा आंगन पर भी करोड़ों बहाए गए लेकिन गांवों में बच्चों को खेलने एक भी खेल मैदान नहीं है।

राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत दमोह जिले में 1 एक लाख 2 हजार 917 कार्य शुरु किए गए थे, जिसमें से 90 हजार 565 कार्य पूर्ण हो चुके हैं। जिले भर में कुल जॉब कार्ड 1 लाख 60 हजार 994 के जॉब कार्ड बनाए गए। लेकिन काम केवल 65 हजार 318 के नाम पर है। जिसमें 40.५७ प्रतिशत है, लेकिन यह सरकारी रिकार्ड है, सूत्रों का दावा है कि मस्टर रोल फर्जी भरे गए, जिससे मनरेगा के तहत महज 15 से 20 फीसदी लोगों को ही अल्प समय काम मिल पाया है। गांव में ही काम न मिलने के कारण मजदूर वर्ग महानगरों में पलायन कर गया है। गांव के गांव खाली हैं, अब दीपावली के समय यह वापस लौटने लगे हैं। वहीं मनरेगा के काम पिछले 15 जून से बंद है, जिससे भी ग्रामीणों को पलायन के लिए विवश होना पड़ा है।...

फोटो - http://v.duta.us/iKD6xgAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/yJRz_QAA

📲 Get Damoh News on Whatsapp 💬