कश्मीर पर बयान देकर फंसा मलेशिया, भारत से आयात बढ़ाने पर दिया जोर

  |   Indorenews

मलेशिया के वाणिज्य मंत्रालय ने अपने एक बयान में कहा, मलेशिया के तीसरे सबसे बड़े आयातक देश होने के तौर पर भारत की अहमियत को समझते हुए उसने ये फैसला लिया है। भारत की तरफ से आयात पर लगाम लगाने की खबरों के बीच भारतीय कारोबारियों ने मलेशिया से तेल का आयात करना बंद कर दिया है जिससे उसे काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। मलेशिया ने कहा कि वह दोनों देशों के बीच मौजूदा व्यापार असंतुलन पर बातचीत करने को तैयार है। भारतीय कारोबारी फिलहाल इंडोनेशिया से खाद्य तेल आयात कर रहे है। भारत ने 2018 में मलेशिया से 1.63 अरब डॉलर के पाम ऑयल व इससे जुड़े उत्पादों का आयात किया था। मलेशिया ने भारत को पिछले वित्तीय वर्ष में 10.8 अरब डॉलर का निर्यात किया था जबकि भारत से 6.4 अरब डॉलर का ही आयात किया था। मलेशिया की सरकारी न्यूज एजेंसी बरनामा के मुताबिक, महातिर ने कहा है कि उनकी सरकार भारत द्वारा उठाए गए कदमों के प्रभाव का अध्ययन करेगी। एजेंसी ने महातिर के हवाले से लिखा, वे (भारत) भी मलेशिया को सामान निर्यात कर रहे हैं। ये केवल एकतरफा व्यापार नहीं है बल्कि द्विपक्षीय है। महातिर ने आगे कहा कि उनके (कश्मीर मुद्दे पर) बयान को दोनों देशों के बीच ट्रेड वॉर की वजह नहीं बनाया जाना चाहिए। अगर ऐसा होता है तो दोनों देशों की ही हार होगी। मलेशिया के एक पूर्व राजनयिक हैस्मी एगम ने कहा, ये दयनीय स्थिति है कि भारत-मलेशिया के रिश्ते ऐसे खराब दौर से गुजर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि दोनों देशों के विदेश मंत्री कोशिश करें कि दोनों देशों के बीच मतभेद पैदा ना हों। महातिर शुरुआत से ही पाकिस्तान का समर्थन करते रहे हैं, जबकि भारत के साथ रिश्ते 2003 में उनके सत्ता से बाहर होने के बाद ही सुधरे थे।

फोटो - http://v.duta.us/MzlcIQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/5OGH7wAA

📲 Get Indore News on Whatsapp 💬