कैंसर के कारण काटनी पड़ी थी जीभ अब ब्लैक राइस की खेती कर दूसरों की बचा रहे जान

  |   Biharnews

पटना. राजधानी पटना (Patna) से महज 35 किलोमीटर दूर स्थित बिक्रम के संग्रामपुर गांव में अब काले चावल (Black Rice) की खेती (farming) कर किसान अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं. पहले यह चावल भारत के मणिपुर और असम में ही पैदा होता था लेकिन अब पटना से सटे बिक्रम के संग्रामपुर गांव के किसान अरुण कुमार शर्मा सहित अन्य किसानों ने भी ब्लैक राइस की खेती करनी शुरू कर दी है.

दो साल पहले हुआ था कैंसर

ब्लैक राइस की खेती करने वाले किसान अरुण कुमार शर्मा की स्टोरी काफी दिलचस्प है. उन्होंने खुद की जान बचाने के लिए ही इस खेती को पेशा बना लिया. उन्होंने बताया कि दो वर्ष पूर्व उनको मुंह में कैंसर हो गया था. इस बीमारी के इलाज के लिए वो मुम्बई गये थे. इस दौरान डॉक्टरों ने उनको जीभ में कैंसर की जानकारी दी थी. इलाज के क्रम में ही कैंसर के कारण जीभ को काट दी गई थी. उस समय डॉक्टरों ने काला चावल खाने के लिए बोला किंतु काला चावल कहीं सुलभ तरीके से नहीं मिल पाया था....

फोटो - http://v.duta.us/t2UNyQAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/P_XJ5AAA

📲 Get Bihar News on Whatsapp 💬