चंदन की स्वर लहरियों से श्रोता मंत्रमुग्ध

  |   Muzaffarnagarnews

बांसुरी की स्वर लहरियों ने श्रोताओं का मनमोहा

मुजफ्फरनगर। जीसी पब्लिक स्कूल में स्पिक मैके की ओर से आयोजित बांसुरी वादन ने छात्र-छात्राओं पर अमिट छाप छोड़ी। मैसूर चंदन कुमार की बांसुरी की स्वर लहरियों ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। भारतीय शास्त्रीय संगीत की कर्नाटक शैली में पहली बार कार्यक्रम सुन रहे श्रोताओं ने न केवल हर रचना का आनंद लिया, बल्कि साथ में ताल भी प्रदान की।

जीसी पब्लिक स्कूल की सीनियर विंग में स्पिक मैके की विरासत श्रृंखला 2019 की प्रथम प्रस्तुति में कर्नाटक से पधारे मैसूर चंदन कुमार ने श्रोताओं का दिल जीत लिया। उन्होंने कर्नाटक शैली में एक के बाद एक बेजोड़ संगीत रचनाएं प्रस्तुत कर श्रोताओं को बांधे रखा। चंदन ने रागम हंसध्वनि में आदिताल में निबद्ध गणपति वंदना से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। प्रात: कालीन राग भावली की मनमोहक प्रस्तुति दी। उन्होंने बताया कि राग को हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में विभास के नाम से जाना जाता है। रागम तालम पल्लवी में मृदंगम वादक बीएस प्रशांत और चंदन कुमार के बीच कमाल की जुगलबंदी का भी श्रोताओं ने भरपूर आनंद लिया। गांधी जी की 150 वीं जयंती वर्ष के मद्देनजर बापू का प्रिय भजन रघुपति राघव राजाराम पर सारे बच्चों ने तालियों को ताल में तब्दील कर अद्भुत माहौल रच दिया। इसी कड़ी में चंदन कुमार ने कार्यक्रम का समापन पुरंदरदास रचित तथा रूपक ताल में निबद्ध एक सुंदर भजन प्रस्तुत किया। कर्नाटक से ही पधारे बीएस प्रशांत ने मृदंगम पर नायब संगत प्रदान की।...

फोटो - http://v.duta.us/mR5hSwAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/orhB-AAA

📲 Get Muzaffarnagar News on Whatsapp 💬