जल संरक्षण की दिशा में पिठवानी के ग्रामीणों की सराहनीय पहल

  |   Gadarwaranews

सालीचौका। एकओर अनेक जगह नदियों से बेदर्दी से रेत का अवैध खनन करके नदियों का अस्तित्व मिटाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जा रही। दूसरी ओर ऐसे भी लोग हैं जो नदियों को बचाने एवं जल सहेजने के काम कर रहे हैं। इसी प्रकार पिछले वर्ष पानी किल्लत झेल चुके ग्रामीणों ने इस वर्ष जल को सहेजने का कार्य अभी से शुरू कर दिया है। जिससे आने वाले समय मे ग्रामीण अंचलों में रहने वाले ग्रामीणों को कृषि और निस्तार के लिए पानी की समस्या से न जूझना पड़े। इसके लिए ग्राम पिठवानी के ग्रामीणों ने आपसी सहयोग से श्रमदान कर ऊमर नदी पर स्टाप डेम का निर्माण कर डाला। सीमेंट की खाली वेस्टेज बोरियों में नदी की रेत भरकर एक-एक बोरी रखकर एक मिनी डैम बना दिया। जिससे नदी का पानी रुकने लगा है । इससे गर्मी के दिनों में भी नदी के अंदर जलस्तर बना रहेगा। नदियों के किनारे बसने वाले ग्रामों के युवाओं को एक शिक्षाप्रद अनुकरणीय काम ग्राम के युवाओं ने करके दिखाया है। जिसमें ग्राम के युवाओं ने एकजुट होकर अपने घरों से सीमेंट की बोरी एकत्रित कर नदी की रेत को भर कर उसकी धारा के प्रवाह को रोकने का कार्य किया है। जब युवाओं से इस बारे में संपर्क किया गया, तो उन्होंने बताया कि अभी नदी में पानी बह रहा है। इससे समय रहते नदी की धार पर एक बोरी बंधान बनाने से जल स्तर बच जाएगा और धीरे, धीरे करके पानी भी आगे आने लगेगा। उक्ताशय की जानकारी देते हुए क्षेत्र के कृषकों और युवाओं ने बताया कि न केवल नदी का जल बचा रहे हैं बल्कि इससे हमारे बोरवेल कुओं पर जलस्तर भी बढ़ेगा। बीते वर्ष अल्पवर्षा के चलते जैसा पिछले वर्ष पानी के लिए परेशान होना पड़ा, वह नहीं होना पड़ेगा। युवाओं में ऐसी जागृति उनकी एकता और अच्छी सोच से आई है। सभी युवाओं ने मिलकर जो प्रयास किए हैं वह भविष्य में उनके लिए सुखदायक होंगे। साथ ही ग्राम की ऊमर नदी पर जो कार्य युवाओं ने किया है। वह अन्य जगह भी सार्थक हो सकते हैं। नदी पर सभी के श्रमदान से बोरी बंधान का कार्य चल रहा है। इस बोरी बंधान को बनाने में सभी ने एकजुटता से जो सफलता प्राप्त की है वह निश्चित ही आगामी समय में सभी ग्रामवासियों एवं आसपास के लोगों के लिए लाभदायक होगी। बोरी बंधान बनाने वाले ग्राम के युवाओं ने सभी आमजन से आग्रह किया है कि वह भी अपने आसपास की नदियों को संरक्षित कर उनके जल के सही उपयोग करें, हर नदी, नाले पर स्टाप डैम बनाएं। जिससे आने वाले समय में पानी की त्रासदी का सामना तहसील, जिले के कृषकों और आम जनता को न करना पड़े।

फोटो - http://v.duta.us/9GJA7QAA

यहां पढें पूरी खबर- - http://v.duta.us/cbsvqQAA

📲 Get Gadarwara News on Whatsapp 💬